टाइम पास जवान लड़की को चोदा

मैंने डरते डरते किस किया था कि कहीं यह बुरा न मान जाए. मगर रीना ने कुछ भी नहीं कहा. मुझे अब ग्रीन सिग्नल मिल गया था. मैंने उसको दोबारा फिर से अपनी बांहों में कस कर टाइट तरीके से हग करते हुए फिर से किस कर दिया.
इस बार रीना भी मेरे किस के बदले में किस करने लगी. जल्दी ही हम दोनों एक दूसरे के होंठों को चूसने लगे. कभी मैं उसके गाल पर चुम्बन दे देता तो कभी उसकी गर्दन पर चूम लेता. मगर कुछ ही पल के बाद रीना ने कहा- चलो, अब देर हो रही है. अभी के लिए इतना ही बहुत है. हमें अब चलना चाहिए, नहीं तो देर हो जाएगी.
मैंने कहा- ठीक है, मगर तुम कल मिलोगी न?
रीना ने कहा- मैं तुम्हें फोन पर बता दूँगी.

उसके बाद हम दोनों पार्क से बाहर निकलने लगे. वहाँ पर लड़के-लड़कियाँ यहाँ-वहाँ कोने में छिपे हुए चूमने-चाटने में लगे हुए थे. उन सब को देखकर मेरा लंड तो वहीं पर खड़ा होने लगा था. मेरी पैंट में अलग से दिखाई देने लगा था. इसलिए मैंने अपनी शर्ट को पैंट से बाहर निकाल लिया ताकि रीना की नजर पैंट में खड़े मेरे लंड पर न पड़ जाए.
उसके बाद हम दोनों बाइक पर बैठे और मैंने रीना को उसके रूम तक छोड़ दिया.
फिर मैं अपने रूम पर चला गया. रात को खाना खाने के बाद रीना को कॉल किया तो हम दोनों फिर से बातें करने लगे. दिन में जो किसिंग हुई उसके बारे में भी बात हो रही थी.

मैंने कहा- रीना, तुम कल यहीँ मेरे दोस्त के रूम पर ही आ आओ. कहीं बाहर घूमने से तो अच्छा है हम दोनों रूम पर ही कुछ वक्त बिता लेंगे.
रीना मेरी बात जल्दी से मान गई.

रात को उसके बारे में सोच कर मेरा लंड खड़ा हो गया था. मैंने उसके चूचों के बारे में सोचा तो मेरा हाथ मेरे लंड पर अपने आप ही चला गया. मैं अपने अंडरवियर में हाथ डालकर लंड को सहलाने लगा. रीना के चूचे मेरे ख्यालों में नंगे हो गए थे. जैसे-जैसे मैं लंड को सहलाता जा रहा था रीना के बदन के कपड़े भी उतरते जा रहे थे.
मेरे हाथ की स्पीड बढ़ गई थी और रीना मेरे ख्यालों में पैंटी में थी. जब मैंने उसकी पैंटी को उतारा तो उसकी चूत के बारे में सोचकर मेरे लंड ने वीर्य छोड़ दिया. मैं अंडरवियर के अंदर ही वीर्य निकाल कर पड़ा रहा. मुझे उसके बाद गहरी नींद आ गई और सुबह ही मेरी आंख खुली.

जब मैं उठा तो मेरा दोस्त कॉलेज जा चुका था. आर्यन को मैंने अंबिकापुर में घूमने के लिए भेज दिया. सुबह रीना का फोन आया और उसने कहा कि वह 15 मिनट में पहुंचने वाली है.
मैं जल्दी से नहाया और फटाक से कपड़े पहन कर उसको लेने के लिए चला गया.

रीना के साथ मैं रूम पर वापस आ गया. आने के बाद मैंने दरवाजे को अंदर से लॉक कर दिया. उससे पूछा- रीना, तुम कुछ ठंडा या गर्म लेना चाहोगी क्या?
वह बोली- मैं तो ठंडा ही पीना पसंद करती हूँ.
मैंने पूछा- कोल्ड ड्रिंक या बीयर?
वह बोली- अगर बीयर है तो बीयर ले आओ.

मैंने फ्रिज में देखा तो तीन बीयर रखी हुई थी. मैंने उसमें से दो बीयर उठा ली और हम दोनों साथ में पीने बैठ गए.
मैंने पहला गिलास भी खत्म नहीं किया था मगर रीना दूसरे गिलास को भरने लगी थी.

देखते ही देखते वह डेढ़ बोतल बीयर अकेले ही पी गई. मेरे हिस्से में केवल आधी बोतल बीयर ही आई थी. मैं उसकी बगल में जाकर बैठ गया. रीना को बीयर चढ़ गई थी. वह मेरे कंधे पर सिर रख कर बात करने लगी.
मैंने धीरे से उसके माथे पर किस कर दिया. उसने मेरे किस का कोई रेस्पोन्स नहीं दिया. उसके बाद मैंने रीना को अपनी बांहों में भर लिया. वह शायद नशे में थी, लेकिन उसने मुझे अपनी बांहों में भर लिया था. उसके बाद मैंने उसके चेहरे को ऊपर किया और उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उनको चूसने लगा.

रीना की सांसें धीरे-धीरे तेज होना शुरू हो गईं. रीना ने भी मेरे होंठों को अच्छी तरह से चूसना शुरू कर दिया. मैंने एक हाथ से उसकी चूचियों को उसके कपड़ों के ऊपर से ही दबाना शुरू कर दिया. इन्हीं चूचियों के बारे में सोच कर मैंने कल रात को अपने लंड की मुट्ठ मारी थी. आज इन चूचियों को मैं अपने हाथों से रीयल में दबा रहा था. यह सोचकर मेरा लंड तन गया था.
उसके बाद मैंने रीना की जींस पर उसकी चूत के ऊपर वाली जगह पर अपनी उंगली से सहलाना शुरू कर दिया. मेरी उंगली उसकी जींस में से ही उसकी चूत में जाने का रास्ता खोजती हुई धंसने लगी. रीना की हल्की हल्की आह्ह … निकलना शुरू हो गई थी.

मेरा जोश अब धीरे-धीरे बढ़ता जा रहा था. मैं उसकी जींस के ऊपर से ही उसकी चूत में उंगली करता रहा. मुझे तो बहुत ही ज्यादा मजा आ रहा था उसकी चूत को छेड़ने और सहलाने में. साथ ही रीना भी कसमसाने लगी थी. मैं रुकने के मूड में नहीं था.
उसके बाद मैंने उसकी जींस के बटन को खोल दिया और उसकी जींस को नीचे सरका दिया. अब रीना केवल टॉप और कच्छी में रह गई थी. उसकी कच्छी आधी भीग गई थी. मैं उसकी भीगी हुई कच्छी पर उंगली फिराने लगा. मैंने नीचे मुंह ले जाकर उसकी कच्छी को गीली जगह से सूंघा तो उसकी खुशबू मुझे मदहोश करने लगी. मैंने उसी वक्त उसकी कच्छी को निकाल दिया और उसकी चूत को नंगी कर दिया. उसके बाद मैं उसकी चूत को चाटने लगा.

Pages: 1 2 3 4

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *