टाइम पास जवान लड़की को चोदा

यारो, मेरा नाम सनी है और मैं बिलासपुर, छत्तीसगढ़ का रहने वाला हूं. आप सभी ने मेरी पिछली कहानी
दोस्त की बहन की चूत चोद दी
को बहुत पसंद किया और बहुत से पाठकों के मेल भी आए।
मैं इस कहानी को अब आगे भी बताना चाहता हूँ.

तो जैसा कि आपने पढ़ा कि कैसे मैंने अपने दोस्त की बहन की चूत चोद दी थी और उसके बाद मेरा उसके साथ अफेयर शुरू हो गया. गुंजन और मेरा यह अफेयर लगभग पांच साल तक चला. फिर एक दिन मुझे वह बात पता चली जिसके बारे में मैंने कभी नहीं सोचा था. मुझे कहीं से पता लग गया कि वह मेरे अलावा किसी और के साथ भी चक्कर चला रही है. जब मैंने इस बात की पड़ताल की तो मेरे पैरों के नीचे से जमीन हिलने लगी.
जिसके साथ उसका चक्कर चल रहा था वह कोई और नहीं बल्कि मेरा ही भाई था. मैं अपने भाई पर बहुत भरोसा करता था. गुंजन के बारे में भी मैंने कभी यह उम्मीद नहीं की थी. मगर उन दोनों ने मिलकर मुझे धोखा दिया. मुझे जब उन दोनों के अफेयर की बात पता लगी तो मुझे बहुत बड़ा सदमा लगा.

मैं अपने भाई को अपनी जान से भी ज्यादा प्यार करता था. मगर उसी ने गुंजन के साथ मिलकर मुझे धोखा दे दिया, यह बात मुझसे बर्दाश्त नहीं हुई और मैंने सदमे में आकर ज़हर पीकर अपनी जान देने की कोशिश कर डाली. मगर होनी को कुछ और ही मंजूर था. मैं ज़हर पीने के बाद भी बच गया.

उसके बाद मैं हमेशा ही उदास रहने लगा था. न किसी से बात करता था और न ही कहीं बाहर निकलता था. मैं अपनी ही दुनिया में रहने लगा था. मेरे दोस्तों को जब मेरी हालत के बारे में पता लगा तो उन्होंने मुझे संभालने की कोशिश की. मेरे दोस्तों ने मुझे बहुत समझाया मगर मेरे दिल से मेरे साथ हुआ धोखा निकल ही नहीं रहा था.

मेरे एक दोस्त, जिसका नाम आर्यन था, को मेरी बहुत चिंता रहती थी. वह मेरी हालत नहीं देख पा रहा था. मेरी हालत में सुधार लाने के लिए उसने मुझे एक दूसरी लड़की का नंबर दे दिया. उस लड़की का नाम रीना (बदला हुआ) था.
रीना एक मस्त और बहुत ही खुले विचारों वाली लड़की थी. आर्यन ने मुझे बताया कि उसको रईस लड़के बहुत पसंद आते हैं जो उसको कार की सवारी करवा सकें, उसको शॉपिंग करवा सकें. वह अपने घर से दूर अंबिकापुर में रहती थी और वहाँ पर रह कर वह पढ़ाई कर रही थी. मगर साथ ही जिंदगी के मजे भी खूब ले रही थी.

रीना काफी चुलबुली-सी, दुबली-पतली फिगर वाली लड़की थी. जब उससे मेरी बात हुई तो मैंने उसको अपने बारे में बताया. रीना ने बताया कि वह मेरे बारे में बहुत कुछ जानती है. आर्यन ने उसको मेरे बारे में काफी कुछ बता दिया था.

धीरे-धीरे हम दोनों की रोज ही बातें होने लगीं. फिर उसने मेरी फोटो मांगी. मैंने अपनी फोटो भेज दी. कुछ दिन तक हम दोनों का ऐसे ही चला.
बातें करते-करते मैं भी अब नॉर्मल होने लगा था. फिर एक दिन मैंने उससे मिलने के लिए बोल दिया.
उसने कहा कि मुझे उससे मिलने के लिए अंबिकापुर आना पड़ेगा.

उसके हाँ करते ही मैं और मेरा दोस्त आर्यन दोनों ही जाने के लिए तैयार होने लगे. अगले ही दिन हमारी ट्रेन थी. हम ट्रेन से रवाना हुए और सुबह अंबिकापुर पहुंच गए. वहाँ पर हमारा एक और दोस्त था जो कि अंबिकापुर में रह कर ही पॉलिटेक्नीक कर रहा था.
मैं और आर्यन दोनों ही पहले अपने उस दोस्त के पास गए. उसके रूम पर जाकर हमने बहुत सारी बातें कीं. उसके बाद मैं और आर्यन तैयार होने लगे. तैयार होकर हमने रीना को फोन कर दिया. रीना भी हमसे मिलने के लिए बेताब सी दिखाई दे रही थी.

उसके बाद मैंने अपने दोस्त की बाइक उठाई और बाइक लेकर रीना के द्वारा बताई गई जगह पर पहुंच गया. वहाँ पर पहुंच कर मैंने रीना को फोन किया. कुछ देर के बाद रीना वहाँ पर पहुंच गई.
जब मैंने उसको देखा तो वह टाइट जींस और टॉप पहन कर आई थी. वह चल कर पास आई और पूछने लगी- इतने गौर से क्या देख रहे हो?
मैं ऐसे ही उसको देखता जा रहा था. मैं चुपचाप खड़ा था और बस रीना को एकटक देखता ही जा रहा था. वह बाइक पर बैठ गई और मुझसे चलने के लिए कहा.

मगर मैं अंबिकापुर के बारे में ज्यादा कुछ जानता नहीं था. वह पीछे बैठी हुई थी और रास्ता बताती जा रही थी. कुछ देर चलने के बाद हम दोनों एक गार्डन में पहुंच गए. वहाँ पर ज्यादातर लड़का-लड़की के जोड़े ही दिखाई दे रहे थे. मैं समझ गया कि रीना मुझे लव प्वाइंट पर लेकर आई है.
हम दोनों एक कोने में अपनी जगह लेकर बैठ गए. फिर हम दोनों के बीच में बातें शुरू हुई और जल्दी ही वक्त बीतने लगा. रीना के साथ बातें करते हुए मुझे वक्त का पता भी नहीं चला.
मैं उसको छूना चाह रहा था मगर अभी इतनी हिम्मत नहीं हो रही थी. फिर मैंने हिम्मत करके उसके गाल पर एक किस कर दिया.

Pages: 1 2 3 4

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *