सगी मौसी के साथ पहला सेक्स अनुभव

दोस्तो, मैं अनुज माहेश्वरी 20 वर्ष, मैं आज आपको यहां मेरी और मेरी मौसी की एक प्यारी कहानी बताने वाला हूं। मेरी मौसी 43 वर्ष की हैं पर हुस्न से 30 वर्ष की लगती हैं.
मैं अपनी मौसी के यहाँ अक्सर छुट्टियों में और फ्री दिनों में जाया करता हूं। यह बात सच है कि मैंने अभी तक सेक्स तो नहीं किया था और पोर्न वीडियोस और नग्न तस्वीरे छुप के देखा करता था, पर अपनी परिवार की किसी भी महिला को मैंने उस नजर से नहीं देखा था।

यह बात लगभग 10 दिन पहले की है, मैं हमेशा की तरह अपनी मौसी के घर गया। वहां मेरी मौसी, मौसा और मेरी मौसेरी बहन (22 वर्ष) रहते हैं। जब मैं वहाँ पहुँचा तो मौसी ने दरवाजा खोला, मुझे देख कर मौसी हमेशा की तरह खुश हुईं और प्यार से मुझे अंदर बुलाया।
मौसी ने कहा- अनुज बड़े दिनों बाद आया है तू!
मैं बोला- मौसी पढ़ाई में ज़रा भी समय ही नहीं मिला, अब आ गया हूं ना … अब कुछ दिन यहीं रुकूंगा आपके पास।
मौसी- हाँ बेटा, यह तेरा ही तो घर है, आराम से कुछ दिन यहीं रहो हमारे साथ।

मैंने पूछा- और बाकी सब कहाँ हैं? कोई दिख नहीं रहा मौसी, तो मौसी ने बताया कि तुम्हारे मौसा तो ऑफिस के काम से बाहर गए हैं एक हफ्ते के बाद लौटेंगे और तुम्हारी बहन उसकी सहेलियों के साथ पिकनिक गयी है रात तक आ जायेगी। अब तू मुंह हाथ धो कर थोड़ा आराम कर ले।
मैंने हाँ में जवाब देते हुए में वहाँ से उठा और रूम में चला गया।

मैंने रूम में जाकर अपनी टी शर्ट उतारी और जीन्स भी खोल कर मेरे शॉर्ट्स पहन लिए और बाथरूम में फ्रेश होकर वपिस बेड पे ऐसे ही लेट गया।
तभी मौसी आयी और बोली- बेटा मैं नहाने जा रही हूँ, तुम आराम कर लो और कोई आये तो जरा देख लेना।
मैंने कहा- हाँ मौसी, आप नहाओ, मैं ध्यान रख लूंगा।

मौसी नहाने चली गई और मैं वहीं लेटा रहा. पर मुझे थोड़ी देर में पोर्न देखने का मन होने लगा. मैंने सोचा कि घर में तो कोई भी नहीं है और मौसी भी नहा रही है तो मैं आराम से पोर्न देख सकता हूँ और मैं अपने फ़ोन पर पोर्न मूवी देखने लगा।

देखते देखते मेरा 7 इंच का लोडा खड़ा होने लगा और तभी अचानक आवाज आई, मौसी ने मुझे बुलाया. उनके बाथरूम का दरवाजा लॉक नहीं था वो हल्का सा दरवाजा खोल कर मुझे बोली- मैं अपना टॉवल तो ले आयी पर ब्रा पैंटी लाना भूल गयी, वहां सामने बेड पे रखे हैं जरा उठा कर मुझे दे दे।
मैंने बेड से उनके ब्रा पैंटी लिए और मौसी के बाथरूम के दरवाजे के सामने जाकर उनके हाथ में दे ही रह था कि गलती से उनके हाथ से टकराकर दरवाजा थोड़ा ज्यादा खुल गया. उन्होंने मेरे हाथ से ब्रा पैंटी ली और जल्दी से दरवाजा बंद कर लिया।

पर उस एक मिनट में ही मुझे उनके पूरे नंगे बदन का दर्शन हो चुका था। वो एकदम गोरी सी, कितनी प्यारी और उनका गीला बदन तो आग लगा देने वाला था। मेरा लन्ड तो पहले से खड़ा था मौसी (40 36 42 ऐसा होगा शायद) का वो नंगा हॉट रूप देख के लोहे के जैसा कड़क तन गया।
मैं परेशान हो गया और वहाँ से हट गया और बाथरूम से दूर आके उनके बेड पे चुपचाप बैठ गया।

फिर कुछ देर में मौसी ब्रा पैंटी पहन के टॉवल लपेट कर बाहर आयी मैं उनके सामने ही बेड पे बैठा था. वो भी हल्की सी शरमाई और मुस्कुरा के दूसरी ओर देखने लगी. मैं भी थोड़ा डर रहा था और शर्म भी आ रही थी क्योंकि मौसी को नंगी देख लिया था और उनके सामने अभी मेरा लोडा सख्त खड़ा था।

मौसी ने कहा- तू जरा कमरे से बाहर जा, मैं टॉवल हटा के कपड़े पहन लूं, फिर आ जाना।
मैं नहीं उठ रहा था, उठता कैसे … मेरा खड़ा मोटा लन्ड मौसी को साफ दिख जाता।
मौसी ने जोर दिया और बोली- जल्दी जा ना, देख मुझे तैयार होने दे।

उनके इतनी बार कहने पे मुझे खड़े होना पड़ा। जैसे ही मैं उठा, मेरे शॉर्ट्स में से उभरता हुआ मोटा और सख्त लोहे जैसा लंड साफ दिख रहा था जैसे शॉर्ट्स को फाड़ के बाहर आना चाहता हो।
मौसी उसे देखती रही और बोली- तू क्या कर रहा था वैसे रूम में? सच बता?
मैंने डर के जवाब दिया- कुछ नहीं मौसी, मैं तो लेटा था बस।
वो बोली- देख तू क्या सोच रहा है, मुझसे मत छुपाना, सच बोल दे अभी।

मैं उनसे कुछ नहीं बोल पाया और रूम के बाहर भाग के आ गया। मौसी तैयार होने लगीं। मुझे फिर से कुछ अजीब सा लगने लगा मैंने पहले कभी सेक्स नहीं किया था और मौसी का वो नंगा बदन मेरी आँखों में घूमने लगा। मुझसे रहा ना गया और मैं छुपके से मौसी के रूम के दरवाजे से उन्हें कपड़े बदलते देखने लगा।

Pages: 1 2 3 4

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *