रूम पर लाकर क्लासमेट की चूत की फाड़ी

मेरा नाम रजत है, मैं नैनीताल से हूँ. मेरी उम्र 25 साल है. मेरी हाईट 5 फुट 5 इंच है. मेरे लंड का साईज साढ़े 6 इंच है. मैं इस समय मेडिकल की पढ़ाई कर रहा हूँ. मैं पिछले कई सालों से अन्तर्वासना पर प्रकाशित कहानियां पढ़ रहा हूँ.. लेकिन मैंने आज तक अपनी कोई कहानी लिखी नहीं थी सो आज सोचा कि अपनी आपबीती कहानी भी लिखूँ. ये मेरा पहला अवसर है और अगर कोई गलती हो तो माफ कर दीजिएगा.

ये कहानी तब की है, जब मैं मेडिकल की कोचिंग कर रहा था. उस समय मेरी उम्र 22 साल थी. मेरी क्लास में सोनिया नाम की लड़की मेरे बगल वाली सीट पर बैठती थी, उसकी उम्र 21 साल की थी. वो बहुत ही सुंदर और मस्त माल थी. पहली नजर में ही किसी को भी आकर्षित कर लेने वाली उसकी मुस्कान देख कर तो मैं पागल ही हो उठता था.. हाय उसके कामुक बदन के उतार चढ़ाव का तो कहना ही क्या था. उसकी हर हरकत पर उसके सुडौल बदन की थिरकन मुझे पागल कर देती थी. मैं कनखियों से उसकी उठती बैठती चुचियों को देखता रहता था.

हम दोनों क्लास में सामान्य बातें करते रहते थे. कभी-कभी क्लास के बाद एक्स्ट्रा समय में भी पढ़ते थे.

एक दिन हमारी बातों ही बातों में शर्त लगी कि कल एक दूसरे से प्रश्न उत्तर करेंगे, बायो में जो ज्यादा सही उत्तर बताएगा, वो जीतेगा और हारने वाले को वही करना पड़ेगा, जो जीतने वाला कहेगा.
उसने तुरंत हां कर दिया, लेकिन मैं तो उसे चोदने के सपने पहले से ही देखता था. अब मैं अपने कमरे में आकर पढ़ने लगा.

तभी थोड़ी देर बाद उसकी कॉल आई. हमारी कुछ देर बात हुई, तो मैंने उससे कहा- पढ़ाई कर लो वर्ना हार जाओगी.
तो वो बोली- अगर हारी तो क्या करवाओगे?
मैंने कहा- करवाऊंगा नहीं.. करूंगा.
तो बोली- क्या?
तो मैंने कहा- वो तो कल ही पता चलेगा.

लेकिन वो जबरदस्ती करने लगी, कहने लगी- अभी बताओ.
तो मैंने धीरे से कह दिया- होंठों पर किस करूंगा.
तो बोली- क्या..!!
मैंने कहा- कुछ नहीं.
तो कहने लगी- मैंने सुन लिया.
मैं बोला- जब सुन लिया तो क्यों पूछ रही हो?
तो बोली- ऐसा वैसा कुछ नहीं होगा.
तो मैंने कहा- लगता है, हारने से डर गई हो?
वो कहने लगी- मैं डरती नहीं हूँ.
मैंने बोला- फिर कल के लिए तैयार रहो.
वो बोली- ठीक है.. यदि तुम हारे तो?
मैंने कहा- जो तुम कहो.

फिर हमने गुड नाईट बोल दिया और मैं पढ़ने लगा.. क्योंकि जीतने पर ही सपने पूरे हो सकते थे.

अगले दिन हम दोनों क्लास में पहुंचे. हमने हाय हैलो किया और क्लास शुरू हो गई. फिर 3-4 क्लास के बाद हमारी छुट्टी हो गई और हम एक्स्ट्रा समय में पढ़ने के लिए दूसरे कमरे में आ गए.

फिर लंच करके हमने एक दूसरे पूछना शुरू किया और आखिर में वो हार गई.

अब मैंने कहा- तैयार हो?
वो बोली- किसलिए?
तो मैंने कहा- अभी बताता हूँ.
जैसे ही मैं उसे किस करने वाला था तो बोली- यहां नहीं यार.. इधर कैमरा लगा है.
तो मैंने कहा- ठीक है चलो मेरे कमरे में चलते हैं.
तो वो आनाकानी करने लगी.
मैंने कहा- ठीक है, तुम आज के बाद मुझसे बात मत करना.
वो हल्की सी हंस कर बोली- नाराज क्यों होते हो यार.. चल तो रही हूँ.

फिर वो मेरे साथ चलने लगी. कोचिंग से मेरा कमरा दस मिनट की दूरी पर है. हम लोग जल्दी ही मेरे कमरे पर पहुंच गए. मैंने अन्दर जाकर उससे बैठने को कहा और हमने पानी पिया.

मैंने उसके सामने बैठते हुए कहा- तैयार हो जाओ.
तो वो बोली- हां तैयार हूँ, बस गाल पर करना.
मैंने कहा- बात तो लिप्स की हुई थी.
तो कहने लगी- ठीक है.. लेकिन जल्दी करना.

फिर मैंने उसको पकड़ा और उसके कान पर किस करने लगा.
वो बोली- अब कान पर क्यों कर रहे हो?
लेकिन मैं उसकी बात को न सुनते हुए उसे लगातार किस करे जा रहा था. उसके गले को भी किस कर रहा था.

वो भी शायद यही चाहती थी इसलिए उसने मुझे नहीं रोका और वो उत्तेजित होती जा रही थी. साथ में वो बड़बड़ा भी रही थी.

अब मैं अपने एक हाथ को उसके मम्मों पर धीरे-धीरे ला रहा था और पॉइंट पर लाते ही मैं उसके मम्मों को दबाने लगा. उसने अपना शरीर ढीला छोड़ दिया और वो ‘आहह आहह.. शिहह…’ की आवाज निकालने लगी. वो धीरे-धीरे मुझे ‘साला कमीना धोखेबाज..’ बोल रही थी. मैंने उसकी एक न सुनी और उसके होंठों को किस करता रहा.. साथ ही उसके मम्मों को भी दबाए जा रहा था.

वो तो बस ‘याहहह यहह.. ओहहहह..’ की मादक आवाजें निकाले जा रही थी.

अब मेरा हाथ उसकी चूत की तरफ बढ़ रहा था. मैंने उसकी जीन्स के अन्दर ही उसकी चूत को छू लिया, जैसे ही मैंने चुत को छुआ, वो चहक उठी.

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *