ऑफिस के लड़के मारी मेरी चूत

हेलो दोस्तों मेरा नाम मीनाक्षी है मैं दिल्ली की रहने वाली हूं मेरा सेक्स में बहुत इंटरेस्ट है मैंने कई बार अपनी चुत चुदवाई है मगर आज मैं आपको अपनी पहली चुदाई की दास्तां सुनाने जा रही हूं यह तब की बात है जब मैं 16 साल की थी और 12वीं क्लास के बाद मैंने जॉब शुरू की और मैं एक कॉलिंग की जॉब करने लगी जिसमें मुझे सोशल वर्क के लिए कॉल कर दी होती थी वह एक अनाथ आश्रम का कॉल सेंटर का जहां पर मैं और सिर्फ दो लड़की और कॉलिंग करती थी हमारा एक बॉस था जो कि हमें काम समझाता था और हम काम करते थे वहां पर हम बच्चों की मदद करने के लिए लोगों से पैसे मांगते थे..

हमारे ऑफिस में 3 4 लड़के काम करते थे जोकि लोगों से पैसे कलेक्ट करते थे जिसमें से एक लड़का था जिसका नाम लकी था वह मुझे बहुत देखता था मैं भी उसे देखा करती थी ऐसे ही हमारे बातें शुरू हुई और बातों बातों में दोस्ती हो गई मेरे साथ जो लड़कियां काम करती थी वह एक दो महीने में जॉब छोड़ कर चली गई और लकी के साथ जो लड़के काम करते थे..

वह भी धीरे-धीरे चले गए अब कॉलिंग के लिए सिर्फ मैं एक लड़की थी ऑफिस में और पैसे कलेक्ट करने के लिए लकी था सिर्फ हमारा बॉस अब हमारे ऊपर प्रेशर डालने लगा था काम का और ज्यादा से ज्यादा काम मांग रहा था कोई भी लड़की नहीं आ रही थी जॉब के लिए इसी बीच मेरी और लकी की गहरी दोस्ती हो गई और हम एक दूसरे से प्यार करने लगे हमारा बोस अक्सर ऑफिस से बाहर चला जाता था और ऑफिस में सिर्फ मैं और लकी रह जाते थे…

मैं कॉलिंग करती थी लकी बैठा रहता था और मुझे देखता रहता था इसी बीच कभी कभी हम दोनों एक दूसरे को किस भी कर लिया करते थे हमारा बॉस पूरा पूरा दिन नहीं आया करता था इस बात का हम दोनों बहुत फायदा उठाया करते थे और खूब मस्ती किया करते थे खूब प्यार करते थे एक दिन हमारा बॉस बाहर गया था कहीं और ऑफिस हमारे हवाले सौंप कर चला गया.

अब ऑफिस में हम अकेले ही रहते थे पूरे पूरे दिन लकी ने मुझे एक दिन किस की और किस करते करते उसने मेरे बूब्स पर अपने हाथ रख दिया और मसलने लगा जब मैंने उससे कहा यह मत करो तो उसने कहा मीनाक्षी हम दोनों एक दूसरे से प्यार करते हैं तो इसमें इतना तो चलता है तो मैंने उसे कुछ नहीं कहा उसकी हिम्मत बढ़ गई और उसने मेरी कमीज के अंदर हाथ डाल दिया और मेरी ब्रा के ऊपर से मेरे बूब्स दबाने लगा सब करते करते उसने मेरी कमीज़ उतार दी और मैं इतनी गरम हो गई थी..

उसको मना नहीं कर पाई अब मैं उसके सामने ब्रा और सलवार में थी उसने मुझे किस करते करते मेरी कमर पर हाथ फेरना शुरू कर दिया और धीरे से उसने मेरी ब्रा का हुक पीछे से खोल दिया मैं चाह कर भी उसको रोक नहीं पाई उसने मुझे उठाकर टेबल बनने का उसने मुझे फिर से किस करना शुरू किया और फिर भी धीरे धीरे नीचे आता क्या पहले उसने मेरी गर्दन पर किसकी है फिर उसने मेरे बुक्स पर किसकी और मेरे बूब्स चूसने लगा एक हाथ से मेरे एक बूब्स को दबा रहा था और चूस रहा था…

फिर उसने धीरे से नीचे आता क्या मेरे पेट पर नाभि पर अपनी जीभ रगड़ने लगा और चाटने लगा मैं बहुत गर्म होती जा रही थी और उसने धीरे से मेरी सलवार का नाडा खोल दिया मैंने उससे कहा यह क्या कर रहे हो मत करो ऐसा मुझे कुछ हो रहा है तो उसने कहा मीनाक्षी मेरी जान मुझे मत रोको मैं तुमसे बहुत प्यार करना चाहता हूं और तुम्हें अपनी रानी बनाना चाहता हूं आज मैं तुमको अपनी बीवी की तरह प्यार करूंगा और तुम्हें खुश कर दूंगा मैंने उससे कहा जो करना है मेरी जान जल्दी करो ..

अब मुझसे रहा नहीं जा रहा प्लीज़ कुछ करो तो उसने यह सुनते ही मेरी सलवार उतार दी अब मैं उसके सामने सिचुत एकदम साफ थी और कुंवारी थी एक भी बाल मेरी छत पर नहीं था एकदम मक्खन जैसी मुलायम चुत देखकर लकी पागल हो गया और उसने अपना मुंह फिर से मेरी चुत पर रख दिया और अपनी जीभ से मेरी चुत को चोदने लगा जैसे ही उसकी जीव मेरी चुत के अंदर कई मुझे एकदम करंट सा लगा मानव में एक सातवें आसमान पर थी और मुझे बिल्कुल होश नहीं रहा कि मेरे साथ क्या हो रहा है..

मैं कहां पर हूं क्या कर रही हूं मुझे कुछ नहीं पता था बस चुत चुदाई आग में जल जाना चाहती थी और मैंने लकी का सर अपनी चुत पर दबा दिया मोर मानो ऐसे दबा रही थी जैसे लकी को अपनी चुत में ही घुसा लूंगी अब लकी मैं अपने कपड़े उतार दिए और अपना अंडरवियर भी उतार दिया..

मैंने पहली बार किसी लड़की को नंगा देखा था और लंड भी पहली बार देखा था इतना बढ़ा लंड देख कर मैं घबरा गई थी और लकी से बोली तुम्हारा इतना बड़ा है चुत में कैसे जाएगा मेरी चुत तो छोटी सी है मैं मर जाऊंगी नहीं ले पाऊंगी से प्लीज इससे ज्यादा आगे मत पढ़ो तो उसने मुझे समझाया और हंसते हुए बोला की पतली भूतनी बड़ी कमीनी चीज होती है इसे इतना बड़ा लंड नहीं हाथी का लंड बी दे दो तो भी यार आपसे अंदर ले लेती है तुम घबराओ मत मैं बहुत प्यार से चोदूंगा तुम्हें…

अब उसने मुझे टेबल से उठाकर जमीन पर पीछे बिठा दिया और मेरे सामने खड़ा हो गया उसने मुझसे कहा मीनाक्षी सेहार पकड़ो मैंने उसे हार में पकड़ लिया उसने मुझसे कहा मीनाक्षी जैसे आगे पीछे करो मैंने अपने हाथों से उसे आगे पीछे करना स्टार्ट कर दिया वह और बड़ा होने लग गया धीरे-धीरे ..

अब उसने कहा मीनाक्षी इसे अपने मुंह में लेकर चूसो जैसे आइसक्रीम चुस्ती हो..

मैंने वैसे ही किया मैंने लैंड को मुंह में लेकर चूसना जादू किया मुझे बहुत अच्छा लगा मेरा जोश पढ़ रहा था मैंने उसे जोर जोर से अंदर बाहर करना चालू किया और लकी भी अब अपने मुंह से सिसकारियां निकलने लगा और अब उसने मुझे फिर से खड़ा कर दिया और टेबल पर लेटने को कहा मैं टेबल पर सीधी लेट के उसने मेरी टांगें चौड़ी कर दी और मेरी टांगों के बीच आकर अपना लंड मेरी चुत पर रगड़ने लगा …

मैं पागल हुए जा रही थी और लकी को गाली देने लगे बहन चोर क्या कर रहा है डाल देना इसको चुत में उतर पा रहा है जल्दी से डाल अंदर लकी ने अब लंड को मेरी चुत के दरवाजे पर सेट किया और धक्का देने लगा मेरी चुत इतनी टाइट थी कि लंड अंदर नहीं जा रहा था तो उसने मेरी चुत पर थूका और अपने लंड को भी रूप से गिला किया फिर उसने दोबारा अपना लंड मेरी चुत पर रखा और जोरदार धक्का मारा उसका लंड का अगला हिस्सा में घुस गया मैं दर्द से चिल्ला उठी हुई मां मर गई निकालो इसे बहुत दर्द हो रहा है.. मैं मर जाऊंगी निकालो इसे बाहर..

लकी रुक गया और वह मेरे ऊपर लेट गया और मेरे होंठ चूसने लगा और कुछ देर तक रुका रहा है ऐसे ही मुझे किस करता था और अपने हाथों से मेरे बूब्स दबाता रहा मेरा दर्द थोड़ा कम हुआ तो उसने दोबारा एक जोरदार धक्का मारा और इस बार उसका पूरा लंड मेरी चुत को समझ चुका था और मैं फिर से चिल्ला उठी इस बार उसने मेरा मुंह अपने मुंह में ले लिया था और मेरी चीख को मेरे मुंह में ही दबा दिया और फिर मुझे धीरे धीरे चोदने लगा अब मेरा दर्द थोड़ा कम हुआ तो मैं भी अपनी गांड उठा उठा कर चुदवाने का मजा लेने लगी..

लकी समझ गया कि आप मुझे मजा आ रहा है उसने अपनी कमर और तेजी दानी शुरू कर दी और लंड तेजी से अंदर बाहर होने लगा मुझे और मजा आने लगा मैं जोर-जोर से चिल्लाने लगी हां हां ऐसे ही चोदते रहो बहुत मजा आ रहा है और तेज से चोदो बहुत मजा आ रहा है बाढ़ दो मेरी चुत में अपना बड़ा सा लंड और बना लो मुझे अपनी रंडी आज से मैं तुम्हारी रंडी हूं लकी तुम मेरे राजा हो तुम जैसे चाहो जब चाहो मुझे चोद सकते हो मैं तुम्हें कभी मना नहीं करूंगी आज से मैं तुम्हारी हूं आ जोर से चोदो ..

तभी मैं अकड़ने लगी और मुझे नीचे कुछ हो रहा था पता नहीं क्या हो रहा था और जो भी हो रहा था अच्छा हो रहा था मैंने लकी को कस के पकड़ लिया और अपनी तरफ खींचने लगी मैंने उसकी पीठ पर नाखून काट दिए खरोच ने लगी लकी की भी स्पीड बढ़ गई उसने मुझसे कहा मेरा होने वाला है कहां निकालूं…

मैंने उससे कहा जानू पहली बार कर रहे हैं तो मेरी चुत में ही अपना माल निकाल दो… मैं भी होने वाली हूं लगता है ऐसे ही करते रहो रुकना मत उसने अपनी स्पीड और बढ़ा दी और तेजी से मुझे चोदने लगा मैं भी अपनी गांड उठा उठा कर उस से चुदवाने लगी और जोर-जोर से चिल्लाने लगी ऐसी चोदते चोदते हैं हम दोनों एक साथ झड़ गए उसने मेरी चुत में ही अपना मां सारा माल झाड़ दिया और मैं भी झड़ गई तकरीबन 5 मिनट बाद उसने अपना लंड मेरी चुत से बाहर निकाला पूरा खून मिला रखा था..

मेरी चुत का माल और उसके लंड का माल भी लगा हुआ था उसके लंड पर मैंने देखा मुझे बहुत अच्छा लगा मेरी चुत से खून और उसका माल मेरा माल हम दोनों का माल मिलकर टेबल पर गिर रहा था मैंने उठकर बाथरूम में गई और अपने आप को साफ किया वापस आए तो दिखा लकी फिर से लंड को मिला रहा था ..

मैंने उससे कहा मेरी चुत को स्विच हुई है दर्द बहुत हो रहा है अब नहीं करते फिर कभी करेंगे उसने कहा ठीक है अब इसको तुम मुंह में लेकर शांत कर दो तो अब बाकी की जुदाई फिर कभी करेंगे मैंने वैसा ही किया मैंने लगी का लंड अपने मुंह में ले लिया और चूसने लगी तकरीबन 15 मिनट तक उसका लंड चूसा फिर उसने मेरे मुंह में माल झाड़ दिया..

लकी का सारा माल पी गई अब हमें जब भी मौका मिलता है हम ऑफिस में खूब जमकर सेक्स का मजा लेते हैं मुझे लकी से अपनी चुत जमाना बहुत अच्छा लगता है..

अब मुझे के लंड की आदत हो गई है तो दोस्तो यह थी मेरी कहानी कैसी लगी मुझे मेल जरूर भेजना मैं अपनी बार भी नहीं कहा कि आप के साथ साथ ही रहूंगी ताकि आपको मेरा सारा अनुभव मिले और लड़की तलाश में रहती हो ..

मुझे अपना प्यार ई-मेल जरूर भेजना आपकी मीनाक्षी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *