मेरी सेक्सी मौसी की मस्तराम कहानी

दोस्तो, मेरा नाम अभिनव मालवीय है, मैं राजस्थान का रहने वाला हूँ. मेरी उम्र 24 वर्ष है और मैं एक बहुत ही कामुक लड़का हूँ. यह कहानी मेरी और मेरी सेक्सी मौसी की चुदाई की सेक्सी कहानी है.
मेरी मौसी की दो खूबसूरत लड़कियां हैं जो कि 18 और 20 साल की हैं. मेरी मौसी के मम्मे और गांड बहुत ही मस्त हैं. उनके मम्मे 36 इंच से भी ज्यादा बड़े होंगे. साथ ही मौसी के मम्मे बहुत ही तने हुए रहते हैं और एकदम गोल हैं. जब मैं छोटा था, तब वो मेरे सामने ही कपड़े बदल लेती थीं, मैं तभी से मौसी के मम्मों का दीवाना हूँ.

एक दिन की बात है, मौसी हमारे घर आयी हुई थीं. मैं, मेरी मौसी और उनकी बेटियां और मेरा छोटा भाई सभी साथ में सो रहे थे. मुझे मेरी मौसी हमेशा से बहुत पसंद थीं. आज वो मेरे पास थीं तो मैं सोता कैसे. मैं इस वक्त मेरी मौसी के पैरों की तरफ सो रहा था और मौसी एक तरफ पीठ करके लेटी हुई थीं.

थोड़ी देर में मैं मौसी के पैरों पर हाथ घुमाने लगा और उनका घाघरा थोड़ा ऊपर कर लिया. मैं थोड़ा ऊपर की तरफ आ गया. चूंकि मैं और मौसी ज़मीन पर दरी बिछा कर सोये थे, तो मुझे ज्यादा परेशानी नहीं हुई. कुछ देर बाद मैं मौसी की गांड के पीछे जाकर लेट गया.

थोड़ी देर बाद मैंने उनका घाघरा गांड तक ऊपर उठा लिया और मौसी की गांड के छेद में जुबान डाल कर गांड के छेद को चाटने लगा. थोड़ी देर में मौसी हिलीं और खड़ी हो गईं. उन्होंने मुझे देखा, मैं एक आंख बंद करके देखने लगा और उन्होंने घाघरा ठीक किया और फिर से सोने लगीं.

थोड़ी देर बाद मैंने अपना हाथ उनकी जाँघों के बीच रखा और धीरे धीरे चुत पे ले गया. जब कुछ प्रतिक्रिया नहीं हुई तो मैंने दो उंगलियां मौसी की चुत में डाल दीं. मैंने महसूस किया कि मौसी की चुत पानी छोड़ रही थी. मतलब वे भी गरम हो रही थीं. मैं बेहिचक उनकी चुत में उंगलियां अन्दर बाहर करने लगा.

मौसी ने फिर टांगें सीधी की और मेरे सर को पकड़ कर अपनी चुत पर रख कर दबाने लगीं. मेरा लंड अब उसकी चूत की माँ चोदने के लिए एकदम तैयार था, पर मैं मौसी को आराम से चोदना चाहता था.

मैं यूं ही लगा रहा, कुछ देर चुत चाटने के बाद मौसी ने मेरे सर को पकड़ा और अपने चेहरे के पास ला कर बोलीं- मज़ा आ रहा है न?
मैंने उनके गुलाबी होंठों पर मेरे होंठ रख दिए और उनको चूसने लगा.

कुछ ही देर में चुदास भड़क गई और हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए. मौसी मेरे लंड पर अपनी जुबान फिरा कर सुपारा चाटने लगीं और लंड के अगले हिस्से को अपने होंठों के अन्दर बाहर करने लगीं. उधर नीचे मैं मौसी की चुत को चाटने लगा. मौसी मेरे मुँह पर पूरा जोर देकर अपनी चुत चटवा रही थीं. मैं उनकी कमर को अपनी हथेलियों में भरके दबा रहा था.

थोड़ी देर बाद मैं मौसी को बोला- मेरा माल निकलने वाला है.
पर साली कुत्ती को लौड़ा चूसने में मज़ा रहा था. थोड़ी देर मैंने पानी छोड़ा तो मौसी ने मेरे पानी को अपने मुँह में ले लिया, फिर अचानक खड़ी होकर कुल्ला करने चली गईं. उसके बाद वो आकर अपनी गांड पसार कर सो गईं और मैं भी सो गया. दूसरे दिन वो मेरी सेक्सी मौसी चली गईं.

फिर कुछ दिन बाद मौसी के यहां सिरोही जाना हुआ. मैं और मेरी सेक्सी सिस्टर मौसी के यहां गए. गर्मी शुरू हो गयी थीं, इसलिये सब लोग छत पर सोने चले गए, पर मैं नहीं गया. मैंने सोचा मैं नीचे सो कर मौसी के नाम की मुठ मारूँगा.

उस दिन मेरी बड़ी गांड वाली मौसी ने घाघरा और ऊपर टाइट ब्लाउज पहना हुआ था. इसमें उनके चूचे बहुत बड़े लग रहे थे और बाहर निकलने को तड़प रहे थे. मैं मौसी को घूरता हुआ सोने चला गया, उन्होंने भी मेरी प्यास समझ ली थी. मैं मौसी को याद करके लौड़ा मसलने लगा.

करीब एक बजे मौसी नीचे आयी और मेरे रूम पर दस्तक दी. मैं उठा और दरवाजा खोला तो देखा मेरी रंडी मौसी मेरे सामने खड़ी थीं. वो झट से अन्दर आईं और दरवाजा बंद करके मुझे कस के गले लगा लिया.
मौसी बोलीं- आह्ह्ह्ह साले मादरचोद … उस दिन गरम करके मुझे छोड़ दिया था.. आज पूरा बदला लूँगी भोसड़ी के..

बस मौसी तो खड़े खड़े ही मेरे लंड को मसलने लगीं, जो कि पहले से खड़ा था. मैं मौसी के होंठों को मुँह में भरते हुए उनकी गांड दबाते हुए होंठों को चूसने लगा. फिर हम दोनों बिस्तर पर आ गए और मौसी को नीचे लिटा कर मैं उनके ऊपर आ गया. मैं उनके चूचों को नंगा करके चाटने लगा और मौसी ‘आह्ह्ह ऊहह्ह्ह …’ करने लगीं. मैं मौसी के एक निप्पल को मुँह में लेकर चूसने और काटने लगा.

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *