मैडम ऑफिस के पास वाले स्टोर रूम में मेरा लौड़ा चूस लेती है

madam office ke pas chudi सभी देसी कहानी के वाचको को मेरे लंड का प्रणाम और लेडिज रीडर की चूत को मेरी पप्पी. थैंक्स फॉर योर रिस्पांस ऑन माय इमेल. आज आप लोगों के साथ अपना कुछ दिन पहले का खास एक्सपीरियंस शेयर करना चाहता हूं.

यह कहानी मेरी और हमारे ऑफिस की अकौंट असिस्टेंट मैडम कविता के बीच की है. कविता एक २९ साल की विवाहित लेडी है. उसका फिगर बहुत अवेसम है. उसका फिगर ३६-३०-३२ है. वह पिछले ३ महीने से हमारी फैक्ट्री में ज्वाइन की हुई है.

यह बात दशहरा से एक दिन पहले की है, उनके हस्बेंड *** में है और अभी उनकी ड्यूटी किश्तवार में है. वह अपने इनलोस के साथ जम्मू में रेंट पर रहती है. शुरू शुरू में थोड़ी शर्मीली थी और वह ज्यादा बात नहीं करती थी.

पर ऑफिस में काम कम होने की वजह से नार्मली फ्री रहती थी और मैं बिजी रहता था तो उसने मेरा डिजाइनिंग का काम सीखना चाहा. हम घुल मिल गए, पास बैठते तो कभी कंप्यूटर ऑपरेट करते बूब्स टच करना नॉर्मल हो गया था.

एक वीक पहले एक दिन जब मैं उसे कुछ बताने के बाद उसे अपना लैपटॉप देकर फैक्ट्री में राउंड लगाने गया तो उसने मेरे लैपटॉप में एडल्ट वीडियो का फोल्डर ओपन कर दिया. मैंने जानबूझकर डेस्कटॉप पर रखा था और फोल्डर का नाम न्यू डिजाइन वीडियोज रखा था.

वीडियोज देखकर वह मस्त हो चुकी थी तो जब मैं अंदर आया तो उसने डर कर विंडो क्लोज करने की जगह लैपटॉप फेसडाउन कर के मेरी सीट से उठ गई, मैंने ओपन किया तो वीडियो चली.

मैंने कहा : मैडम जी कैसी लगी?

उसने कोई रिप्लाई नहीं दिया.

मैंने कहा : शर्माती क्यों हो? मेरे से कैसा शर्माना?

यह कहकर मैं फिर से बाहर चला गया जब वापिस अंदर आया तो मैडम ने अपना दुपट्टा साइड पर रखा हुआ था मैं उसकी देखता रह गया और उनके पास जाकर बैठा.

मैंने अपना हाथ माउस पर ले जाते मैडम के बूब्स पर रखा और प्यार से प्रेस किया उसने स्माइल करते हुए बोलि सर जी आराम से करो कोई आ जाएगा. मैंने कहा अगर कोई फैक्ट्री में ना हो तो फिर?

मैडम ने कहा : तब का तब देखेंगे.

५:३० बज गए थे, वर्कर्स जाने लगे. मैंने मैडम को कहा रुक जाओ मुझे भी सिटी जाना है डिजाइन देने. तो तुम १५ मिनट रुको मैं आपको छोड़ दूंगा, उसने ओके बोला और रुक गयी. थोडा नॉटी स्माइल भी किया. उसी समय सिक्योरिटी गार्ड ने रम नॉक किया.

मैंने कहा : कम इन

गार्ड ने कहा : साहब मेरी तबीयत ठीक नहीं लग रही है. मैं १५ मिनट में दवाई लेकर आ जाऊं?

मैंने कहा : ओके, फेक्टरी की बाइक ले जाओ, जल्दी आ जाना.

गार्ड के जाती ही मैंने रूम अंदर से लोक किया और मैडम के पास गया.

मैंने कहा : मैडम अब तो कोई नहीं आएगा, कुछ दिखाओ, मैंने उनकी टांग पर हाथ रखा.

मैडम ने प्यार से हाथ साइड किया.

मेडम ने कहा सर जी रहने दो.

मैंने कहा चलो एक किस ही देदो आज.

मैडम ने कहा : ठीक, बस एक किस बस.

मैं मैडम के लिप्स के पास गया और प्यार से किस कर दी और चूसने लगा. वह पीछे हटना चाहती थी पर मैंने लिप्स नहीं छोड़े और जैसे ही टंग मुह में डाली तो वह भी रिस्पांस करने लगी. उसे मजा आ रहा था. हमारी किसिंग तेज हो गई मैंने उनके बूब्स दबाए और फिर गांड, हम पीछे हटे और फिर एक बार फिर मैडम ने किस किया, मैडम का हाथ मेरे लंड पर था.

मैंने कहा मैडम एक बार इसको भी किस दे दो.

मैडम ने कहा गार्ड आ जाएगा.

मैंने कहा रुको, मैंने गार्ड को कॉल किया उसने कहा सर रुक जाओ जाम लगा है, १०-२० मिनट में आया.

मैडम ने सुना और नीचे बैठ गई.

टाइम वेस्ट ना करते हुए मैंने जिप खोली और मेरा ६ इंच का मोटा लंड बाहर निकाला, मैडम बोली कितना बड़ा है उनका थोड़ा छोटा है. और यह कहते ही उसने उसे मुंह में लेकर चूसने लगी. वाह क्या मजा रहा था. पता नहीं कब की प्यासी लौड़ा चूस रही थी. १० मिनट लगातार चूसने के बाद मैंने आवाज लगाई आई एम अबाउट टू कम, मैडम रुकी और बोली मुझे चखना है.

मैंने मैडम का सिर पकड़कर प्लीज फास्ट की और उनके मुंह में ही झड़ गया और मैडम को खड़ा करके किस करने लगा. मैडम की शर्ट ऊपर की और बूब्स बाहर निकालें और चुसे. २-५ मिनट और फिर गेट खुलने की आवाज आई और मैडम वोशरूम चली गई कपड़े ठीक करने के लिए.

गार्ड चाबी देकर वापिस गया तो मैडम बाहर निकली शरमा रही थी. हम गाड़ी में बैठे और सिटी की और चल पड़े. मैंने मैडम का हाथ पकड़ रखा था. थोड़ी हिम्मत करके मैंने मैडम को कहा मैडम आप कल आ सकते हो?

Pages: 1 2 3

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *