मेरी कामवासना बेटे के लंड से तृप्त हुई

नेहा के मुँह से उसकी सहेली की चुत की बात सुनकर मैं खुश हो गया. मॉम भी खुश थीं. उन्हें पता था कि अब वो पंजाबी जवान लड़के से चुदने वाली है.
मैं तो इसलिए खुश था कि मैं कनाडा में तीन चुदक्कड़ों को एक साथ चोदूंगा.
मैंने उन दोनों को हां बोल दिया.

मैंने उन दोनों के जाने के कागज आदि रेडी करवाए. फिर तय रात को मैं, नेहा और मॉम निकल गए. दूसरे दिन हम सभी कनाडा पहुंच गए. वहां एयरपोर्ट में हमें लेने कार आई हुई थी. ड्राइवर ने हमें पिक किया. वो ड्राइवर भी विदेशी था. एक मस्त गोरा 6 फिट का जवान आदमी था. उसकी उम्र लगभग 40 साल की रही होगी. वो हमें कार में बैठा कर घर ले आया.

शीला का घर बहुत ही अच्छा घर था. वहां नेहा की फ्रेंड शीला ने दरवाजा खोला. मैंने उसे देखा कि उसकी बॉडी बड़ी मस्त थी. वो नाटे कद की लगभग 5 फिट की औरत थी. उसका शरीर गदराया हुआ था. थोड़ी मोटी जरूर थी मगर मस्त फिगर 42-36-48 का था. एकदम गजब की पंजाबन थी. उसकी उम्र 42 साल की थी.

फिर शीला ने हमें हॉल में बैठाया. मैंने उससे पूछा- आंटी आपकी फैमिली के बाकी और सब कहां हैं?

तो शीला ने बताया कि उसके हस्बैंड दुबई में जॉब करते हैं और घर में वो उसका बेटा और उसके गांव का एक नौकर रहता है और ये ड्राइवर.

मुझे खेल समझ आने लगा.

फिर उसने बोला- तुम सब फ्रेश हो जाओ.

उसके बाद मॉम और नेहा एक रूम में और मैं एक रूम में घुस गया. मैं नहाने गया और फ्रेश होकर आया, तो बाहर शीला आंटी थीं. मैं सिर्फ टॉवल में था और उन्हें देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया.

उन्होंने मेरे लंड की हरकत को नोटिस कर लिया. फिर मैंने अपने लंड को हाथ में पकड़ लिया.

आंटी हंस कर बोलीं- कोई बात नहीं … मुझे नेहा ने फ़ोन पर सब बता दिया था. अब तो इसे मुझे अन्दर लेना ही है. अभी एक बार दिखा दो.

शीला की बात सुनते ही मैंने टॉवल उतार दिया. उन्होंने मेरे लंड को हाथ में पकड़ लिया और हिलाने लगीं.

मैं भी उनके मम्मों को मसल रहा था. वो एकदम से गरम हो गयी थीं. उन्होंने मेरे सीने को चाटना शुरू कर दिया और एक हाथ से अपने चुत को कुरेदने लगीं.

मैंने उन्हें वह बेड पर पटक दिया और उनके कपड़े उतार दिए. अब मैं उनके पैरों को चाटने लगा और चाट कर मैं चुत तक पहुंच गया. मैं अपनी जीभ से लगातार चुत चाट रहा था.

शीला की कामुक आवाजें ‘अअअ हहह ऊऊम्म्म ऊउफ़्फ़..’ कमरे में गूंजने लगी थीं.

कुछ देर बाद मैं अपने हाथ से शीला के मम्मों को मसल रहा था. उनकी आवाज़ भी तेज हो गयी थी और वो भी तेज स्वर में चिल्लाने लगी थीं- अअह … उहहह और जोर से … हां लगे रहो.
अब मैंने 69 में होकर अपना लंड शीला के मुंह पर लगा दिया तो उसने झट से मेरा लंड मुंह में लिया और चूसने लगी.

थोड़ी देर बाद वो चरम सीमा पर आ चुकी थीं और मेरी झमाझम चुत चटाई के बाद झड़ गईं. मैं भी उनके मुंह में ही झड़ गया.

फिर मैं वहां से रेडी होकर काम के लिए निकल पड़ा.

अब मेरे यानि विरत की मॉम निशा के शब्दों में:

मैं कमरे के बाहर खड़ी थी. विराट और शीला की चूत लंड की चुसाई और चटाई को देख रही थी. इसके आगे क्या हुआ, वो अगली चुदाई की कहानी में मैं आप सभी को लिख कर बताऊंगी.

आप अपने मेल मुझे करते रहिएगा, मैं सभी के मेल पढ़ती हूँ … तो बहुत अच्छा लगता है.

आपकी निशा और विराट.

Pages: 1 2 3

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *