कैसे सील तोड़ी कभी भूल नहीं पाऊंगी

Antarvasna, hindi sex story: निर्मला दीदी मुझे कहने लगी कि काजल तुम मेरे साथ मार्केट चलो ना मैंने काफी दिन से शॉपिंग नहीं की है। मैंने निर्मला दीदी से कहा दीदी लेकिन मैं आपके साथ कैसे चलूंगी अभी तो मैं कॉलेज से लौटी हूं तो दीदी कहने लगी कि नहीं तुम मेरे साथ चलो ना। दीदी की जिद के आगे मैं कुछ ना कह सकी और दीदी के साथ मैं मार्केट चली गई लेकिन जब मैं मार्केट गई तो वहां पर मेरी मुलाकात अक्षय से हो गई। अक्षय और मैं एक दूसरे को पसंद करते हैं लेकिन हम दोनों ने कभी भी एक दूसरे से अपने दिल की बात नहीं कही। निर्मला दीदी मेरी तरफ देख कर कहने लगी कि काजल वह लड़का तुम्हें बहुत घूर कर देख रहा था क्या तुम उसे जानती हो। मैंने निर्मला दीदी से कहा नहीं दीदी मैं उसे नहीं जानती लेकिन निर्मला दीदी शायद मेरी बातों को समझ चुकी थी और वह मुझे कहने लगी तुम मुझसे झूठ कह रही हो तुम उसे जानती हो। मैंने दीदी से कहा दीदी आप शॉपिंग कर लीजिए ना आप मुझे अपने साथ क्यों लेकर आई थी तो निर्मला दीदी कहने लगी ठीक है हम लोग शॉपिंग कर लेते हैं।

हम लोग एक बड़े शोरूम में चले गए वहां पर दीदी ने काफी कुछ सामान अपने ले ले लिया था। हम लोगों को वहां पर करीब दो से तीन घंटे लग गए थे और उसके बाद हम लोग घर वापस लौट आए। निर्मला दीदी के मन में कई सवाल थे जो ह मुझसे करना चाहती थी और मुझसे वह पूछने लगी कि क्या तुम उस लड़के को पसंद करती हो। मैंने दीदी से कहा देदी मैंने आपको कह तो दिया था कि मैं उस लड़के को नहीं जानती लेकिन दीदी ने आखिरकार मेरे अंदर से वह बात निकलवा ही दी। मैंने दीदी से कहा दीदी उसका नाम अक्षय है और वह मेरे कॉलेज में ही पड़ता है हम दोनों साथ में पढ़ते हैं और शायद वह मुझे पसंद करता है और मुझे भी वह बहुत अच्छा लगता है लेकिन आज तक मैंने कभी भी उसे अपने दिल की बात नहीं कही। दीदी मुझे कहने लगी कि अच्छा तो तुम भी उसे पसंद करती हो मैंने दीदी से कहा हां दीदी मैं अक्षय को पसंद करती हूं लेकिन आज तक मैंने उसे अपने दिल की बात नहीं कही है।

दीदी कहने लगी कि तुमने उसे अपने दिल की बात आज तक क्यों नहीं कहीं तो मैंने दीदी को कहा दीदी आपको तो पता ही है ना यदि हम दोनों का रिश्ता आगे बढ़ा तो पापा मम्मी को इस बारे में मालूम चल जाएगा और फिर वह गुस्सा हो जाएंगे अब आप जानती हैं कि वह किस विचारधारा के हैं वह कभी भी मेरे और अक्षय के रिश्ते को स्वीकार नहीं करेंगे। दीदी कहने लगी कि लेकिन तुम्हें इस बारे में अक्षय से तो बात करनी चाहिए। मैंने दीदी से कहा दीदी मैंने अक्षय से सिर्फ इसीलिए बात नहीं की थी क्योंकि मुझे लगता है कि यदि हम दोनों का रिश्ता आगे बढ़ा तो कहीं उससे हम दोनों को ही कोई नुकसान ना हो। मेरे पापा पुलिस में हैं और वह बड़े ही सख्त मिजाज हैं दीदी की बातें मेरे दिमाग में तो आ चुकी थी लेकिन मेरा दिल अभी भी गवाही नहीं दे रहा था कि मुझे अक्षय से बात करनी चाहिए। मैं पापा से बहुत डरती थी और इसीलिए शायद मैं अक्षय को दिल से स्वीकार नहीं कर पा रही थी परंतु मैं अपने आप को कितने दिनों तक रोकती आखिरकार एक दिन मुझे अक्षय को अपने दिल की बात कहनी पड़ी। जब मैंने उससे अपने दिल की बात कही तो उसने भी मुझे कहा कि मैं भी तुम्हें बहुत पसंद करता हूं। अक्षय मुझे बहुत पसंद करता है, यह बात मुझे मालूम थी कि अक्षय मुझे पसंद करता है हम दोनों का रिश्ता आगे बढ़ने लगा था और मैं अपने रिश्ते को आगे बढ़ते हुए देखकर खुश थी। मैंने यह बात निर्मला दीदी को भी बताई कि मेरे और अक्षय के बीच में अब रिलेशन चल रहा है तो दीदी कहने लगी कि कभी तुम मुझे भी अक्षय से मिलवाना। मैंने दीदी से कहा हां दीदी मैं जरूर आपको अक्षय से मिलवाउंगी और एक दिन मैंने दीदी को अक्षय से मिलवाया तो दीदी ने अक्षय से पूछा कि क्या तुम दोनों एक साथ अपना जीवन बिताना चाहते हो। अक्षय ने जवाब दिया कि हां दीदी मैं काजल को बहुत पसंद करता हूं और उसी के साथ मैं आगे जीवन बिताना चाहता हूं लेकिन अभी तो हमारी पढ़ाई चल रही है।

मेरे और अक्षय के रिश्ते और दिन-ब-दिन गहरे होते जा रहे थे हम दोनों बहुत ज्यादा खुश थे और मुझे बहुत अच्छा लग रहा था कि मैं अक्षय के साथ रिलेशन में हूं। एक दिन मुझे पापा ने अक्षय के साथ देख लिया और अक्षय को उन्होंने काफी भला बुरा कहा उसके बाद पापा ने मेरा घर से निकलना ही बंद कर दिया था। कुछ दिनों तक तो पापा ने मेरा घर से निकलना बंद कर दिया था और निर्मला दीदी को मेरी निगरानी रख दिया था। निर्मला दीदी भी चाहती थी कि मैं अक्षय से मुलाकात करूं और निर्मला दीदी ने एक दिन चुपके से मुझे अक्षय से मिलवाया। जब दीदी ने मुझे अक्षय से मिलवाया तो मुझे बहुत अच्छा लगा और मुझे इस बात की भी खुशी थी कि अक्षय से मैं काफी दिनों बाद मिल रही थी। अक्षय मुझसे कहने लगा कि क्या अब तुम कॉलेज पढ़ने के लिए नहीं आओगी। मैंने अक्षय से कहा अभी तुम्हें कुछ कह नहीं सकती कि मैं कॉलेज पढ़ने आउंगी या नहीं लेकिन पापा इस बात से बहुत गुस्सा है और वह तो शुक्र है कि निर्मला दीदी ने मुझे तुम से मिलवा दिया। मैंने जब अक्षय को यह बात कही तो अक्षय कहने लगा काजल मुझे तुम्हारी बहुत याद आती है और लगता है कि तुमसे मिलने के लिए तुम्हारे घर पर ही आ जाऊं। मैंने अक्षय को कहा देखो अक्षय ऐसा कभी गलती से भी मत करना यदि यह बात पापा को मालूम चली तो पापा बहुत ज्यादा गुस्सा हो जाएंगे और तुम इस बात से अनजान हो कि पापा का गुस्सा कितना ज्यादा बढ़ जाएगा। मैं अब घर लौट चुकी थी।

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *