गरिमा भाभी की अनोखी चुदाई

हेल्लो दोस्तो मेरा नाम लकी है और मैं चंडीगड़ से हूँ मेरे लंड का साइज़ 6 इंच है और मैं दिखने मैं काफ़ी हॅंडसम हूँ.

मैने आज तक सिर्फ़ 2 बार सेक्स किया है और वो भी कॉल गर्ल्स के साथ और सच बताउ तो उसमे कोई मज़ा नही है.
लड़की आपके सामने कपड़े उतारके खड़ी हो जाती है और बाकी सब तुम्हारे उपर की तुम कितनी देर उसकी चूत मारते हो और सब कुछ ख़तम.

सच बताउ बिना एमोशनल अटॅचमेंट के सेक्स का बिल्कुल मज़ा नही आता. आपको इस बारे में क्या राय है मुझे ज़रूर बताना.

अब अपनी भाभी के बारे में बता देता हूँ, उनकी शादी 2 साल पहले हुई है और उनका एक बच्चा है, उनका नाम गरिमा है.

वो दिखने में बोहोत सेक्सी है, उनका फिगर बोहोत ही लाजवाब है और उन्होने अपनी बॉडी को काफ़ी अच्छे से मेनटेन रखा है, मुझे उनके बूब्स बोहोत ज़्यादा पसंद है.

उनके बूब्स का साइज़ 36डी है. इसका मतलब है उनके पति उनके बूब्स रोज़ चूस्ते होंगे.

मैं अक्सर उनके घर आता जाता रहता था और उनके बच्चे के साथ बोहोत खेलता था. भाभी अक्सर घर पे ही रहती थी और उनके पति प्राइवेट जॉब करते थे और रोज लेट ही घर आते थे.

मेरी भाभी के साथ काफ़ी अच्छी बनती थी तो हम काफ़ी टाइम एक साथ टीवी देखते थे और काफ़ी हसी मज़ाक भी करते थे.

1 दिन मुझे पता चला की भैया 1 मंत के लिए आउट ऑफ स्टेशन जा रहे हैं और भाभी ये बात सुनकर काफ़ी नाखुश थी.

मैं भाभी को अपनी फ्रेंड की तरह समझता था इसलिए कभी मेरे माइंड में उनके प्रति कोई गंदा ख़याल नही आया था.

तो मैं उन्हे समझाने लगा आप मायूस ना हो बस 1 मंत की तो बात है मैं और आयुष (उनका बेटा) है ना आपके पास.

फिर भैया के जाने के बाद हम टीवी देख रहे थे और मैने चॅनेल चेंज करने की ज़िद्द की तो भाभी नही मानी क्यूकी उनका फेवरेट सीरियल चल रहा था.

मैने जब रिमोट ज़बरदस्ती करते हुए मस्ती मे उनसे रिमोट लेने की कोशिश की तो उन्होने रिमोट अपने टॉप के अंदर दोनो बूब्स के बीच में रख लिया.

उन्हे पता था की मैं एक समझदार लड़का हूँ और उनके प्राइवेट पार्ट्स पे कभी हाथ नही डालूँगा.

मुझे बोहोत बुरा लगा. जब उनका सीरियल ख़तम हो गया तो उन्होने मुझे रिमोट दे दिया और बोली ये लो देख लो जो देखना है, मैने रिमोट लिया और टीवी देखने लगा लेकिन मेरा फेव सीरियल अब ख़तम हो चुका था.

फिर रोज़ ही ऐसे होने लगा वो रोज़ ही रिमोट को अपनी क्लीवेज के अंदर डाल लेती और रिमोट उनके दोनो बड़े बड़े बूब्स के बीच समा जाता.

फिर एक दिन मुझसे नही रहा गया और मैने उनके क्लीवेज में हाथ डाल लिया और रिमोट निकालने की कोशिश करने लगा लेकिन भाभी ने मेरा हाथ पकड़ लिया और काफ़ी टाइम मेरा हाथ उनके बूब्स के कॉंटॅक्ट में था.

उनके बूब्स बोहोत ही सॉफ्ट होते, हाथ लगते ही लगा जैसे दुनिया की सबसे सॉफ्ट चीज़ हो और एकदम से मेरा लंड खड़ा हो गया. मैने कंट्रोल करते हुए हाथ हटाया और भाभी को सॉरी बोला.

भाभी घुस्सा होने लगी तो मैने फिरसे उन्हे सॉरी बोला.

लेकिन उस दिन के बाद मेरा भाभी को देखने का नज़रिया ही बदल गया था.

अब मैं उनको सोच कर मूठ मारने लगा और उनके बाथरूम में जाकर उनकी ब्रा और पनटी को लंड के उपर लपेट कर मूठ मारने लगा.

अब मैं उन्हे चोदना चाहता था और उनकी चूत का स्वाद चखना चाहता था.

मुझे यह भी पता था की जब तक भैया नही आ जाते उससे पहले ही मुझे मौका बनाना होगा.

नही तो मेरा भाभी को चोदने का सपना अधूरा ही रह जाएगा.

मैने फिर एक प्लान बनाया की जैसे ही नेक्स्ट डे भाभी रिमोट को छुपाने की कोशिश करेंगी मैं हाथ डाल लूँगा और निकालूँगा ही नही.

मैने नेक्स्ट डे भाभी को सेक्स के 2 कॅप्सुल दूध में मिलाकर दे दिए और और वेट करने लगा उनके मदहोश होने का. जैसे ही मैने टीवी ओन्न किया भाभी ने पहले से ही अपने वाला चॅनेल लगा रखा था और कहीं रिमोट भी नही मिल रहा था.

भाभी हसने लगी और मदहोश सी आवाज़ में बोली आज तू रिमोट नही ढूंड पाएगा.

मैने झट से भाभी की और गया और उनके टॉप के अंदर हाथ डाला तो अंदर कुछ नही था. तो मैने धीरे से भाभी के लेफ्ट और राइट बूब पे हाथ फेरा.

वहाँ रिमोट तो नही मिला लेकिन भाभी के सेक्सी निपल्स को हाथ लगाने का मौका मिल गया था.

मेरे यूँ हाथ फेरने से भाभी और अभी मदहोश होने लगी और सेक्स की गोलियों का असर उनपे दिख रहा था, जब मैने उनके बूब्स पे हाथ फेरा उन्हे कोई फरक नही पड़ रहा था.

फिर मैं उनकी चूत की तरफ बढ़ा तो जैसे ही मैने उनकी चूत पे हाथ फेरा तो वहाँ भी कुछ नही था.

Pages: 1 2 3

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *