दीदी की सहेली को कार में चोदा

दोस्तो, मैं पीहू (नाम बदला हुआ है) आपको दीदी की सहली की चुदाई की कहानी से आगे की घटना बताने जा रहा हूँ. मैं आशा करता हूँ आपको यह सेक्स कहानी भी पसंद आएगी.

पिछली कहानी में आपने जाना था कि मैंने कैसे अपनी दीदी की सहेली की चुदाई की थी. इस बार मैंने उसकी कार में चुदाई की.

उस दिन मैं दीदी की सहेली बेबी को चोद कर अंकल के घर से बाहर आया और फिर शादी के काम में लग गया.

काफी देर के बाद मैंने देखा बेबी अभी तक अंकल के घर से नहीं आयी थी. मुझे थोड़ा चिंता होने लगी. क्योंकि सेक्स करने के बाद उसने मुझसे बात नहीं की थी … और मैं भी तुरंत फ्रेश होकर बिना बाय बोले ही घर आ गया था.

तभी अचानक मुझे याद आया कि मैंने तो उसकी ब्रा को सेक्स करते समय फाड़ दिया था. यही सोचते सोचते मैं तुरंत काम छोड़ कर अंकल के घर तरफ बढ़ने लगा. मुझे इसी के साथ खुद पर गुस्सा भी आ रहा था … क्योंकि उसने कहा था कि ब्रा तुम ही लाओगे.

पर जैसे ही मैं घर से बाहर निकला तो देखा कि बेबी काही रंग का सूट पहने उधर से आ रही थी. मैं तो उसे देखते ही रह गया … क्या मस्त पटाखा लग रही थी. इस चुस्त सूट में उसके बूब्स और भी बड़े बड़े लग रहे थे. उसकी चाल भी बहुत सेक्सी थी. मेरा तो मन किया कि उसे यहीं पटक कर फिर एक बार चोद दूँ.

तभी बेबी मुझे देख कर मुस्कुरा दी और मैं भी उसे देख कर मुस्कुरा दिया. फिर बेबी मेरे पास आयी और बोली- तुम मुझे छोड़ कर कहां चले गए थे … मुझे लगा तुम बाथरूम गए होगे, पर तुम वहां नहीं थे?

मैं तो बस उसे देख रहा था और कुछ नहीं बोलते हुए मन में सोचा ‘ओह … अब तो और भी बहुत सेक्सी लग रही हो …’ मैंने उसका बातों का जवाब दिए बगैर बोल दिया- तैनू सूट सूट करदा! (तेरे ऊपर यह सूट अच्छा लग रहा है.)
यह सुन कर वो हंसने लगी, मुझे भी हंसी आ गई.
उसने कहा- थैंक्स मिस्टर गुरु रंधावा.
मैं बोला- इसमें थैंक्स क्यों … आप हो ही सुन्दर, जिसे देख कर किसी के भी मुँह से तारीफ निकल जाए.

‘ओह्ह …’ कहते हुए वो अपनी तारीफ़ सुन कर शर्मा गयी. फिर वो अन्दर चली गयी. अन्दर जाते टाइम मैंने उसको देखा कि उसकी गांड बहुत मस्त मटक रही थी. चुदने के बाद और भी सेक्सी दिख रही थी. पता नहीं साली लंड के अलावा क्या और खाती थी. मैंने उसी टाइम सोच लिया था कि आज शादी में कैसे भी करके इसकी गांड जरूर मारूंगा.

सब लोग बारात की तैयारी में जुट गए. मैं भी बीच बीच में बेबी की गांड पर हाथ साफ कर लेता था और वो भी मुस्कुरा देती थी.

फिर हम सब बारात के लिए तैयार हुए तो देखा कि बेबी भी तैयार हो गयी है. उसने लहंगा चोली पहना हुआ था. वो क्या मस्त आइटम लग रही थी लहंगा में … एकदम हीरोइन के जैसे … और साथ ही उसके बाल खुले हुए थे … वाऊ … मैं तो पागल हो गया. मैं खुद अपनी किस्मत को बोला कि क्या बात है … कल रात में दीदी का मुख चोदन का मजा किया, फिर उनकी इतनी खूबसूरत दोस्त को पेला. आह पीहू भाई क्या नसीब पाया है तुमने.

यही सब सोचते हुए मैं बेबी के पास गया, जहां वो कुछ लड़कियों के साथ बातें कर रही थी.

मुझे देखते ही वो बोली- वाओ बहुत मस्त लग रहे हो तुस्सी(आप)
यह बोलकर हम दोनों साथ में हंसने लगे.

फिर मैं बोला- आज तो तुम सब पर कयामत ढहा रही हो.
वो बोली- थैंक्स बट सबके लिए नहीं … ये बस आपके लिए है.

उसके मुँह से ये सुन कर मैं बहुत खुश हुआ क्योंकि परसों तक मैं चुत के लिए तरसता था और आज चुत खुद बोल रहा है कि मैं सिर्फ तुम्हारी हूँ.

फिर हम दोनों साथ साथ कार में बैठ कर शादी के मंडप में गए. सभी लोग बस हम दोनों को ही देख रहे थे और बोल रहे थे कि पीहू की जीएफ कितनी सुन्दर है.
मैंने सबको बोला- ये दीदी की ससुराल की फ्रेंड है.
पर सब लोग शक ही कर रहे थे. खैर … जाने दीजिए.

कार में बैठा मैं अपनी आदत से मज़बूर था. मेरे बगल में इतनी सेक्सी लेडी मेरे साथ बैठी है और मैं शादी इंजॉय करूँ … हट … क्या पागल कुत्ते ने काटा है. कुछ तो करना ही है.

मैं उसको सहलाने लगा. उसने कहा- बाद में प्लीज़ … अभी सब देख रहे हैं.

मैं चुप रह गया. बाद में हम दोनों ने खाना खाया.

फिर मैंने उससे बोला- चलो घर चला जाए … मुझे तुम्हारे साथ कुछ टाइम बिताना है, क्योंकि तुम कल चली जाओगी फिर हम शायद ही कभी मिल पाएंगे.
फिर वो बोली- हां चलो चलते हैं.

Pages: 1 2 3 4

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *