डार्लिंग तुमको ऐसे ही चोदूंगा

Antarvasna रोशन और मैं स्कूल में साथ पढ़ा करते थे रोशन हमारे घर के पास में ही रहता है हम लोग हर शाम को मिलते जरूर हैं जब मुझे रोशन मिला तो रोशन ने मुझे कहा कि मैं तुम्हें एक बात बताना चाहता हूं। मैंने रोशन से कहा हां रोशन कहो ना तुम्हें मुझे क्या बात बतानी है तो रोशन मुझे कहने लगा कि रजत हमारे क्लास में पिंकी पढ़ती थी तुम्हें याद है। मैंने उसे कहा हां पिंकी को तो मैं अच्छे से जानता हूं वह मेरे साथ मेरे फेसबुक अकाउंट में भी है और एक दो बार मेरी उससे फेसबुक चैट के माध्यम से बात भी हुई थी। रोशन कहने लगा पिंकी और मेरे बीच में कुछ समय से प्यार की बातें हो रही है और अब हम दोनों जल्द ही एक दूसरे से अपने दिल की बात कहने वाले हैं। मैंने रोशन से कहा दोस्त तुम तो मुझसे एक कदम आगे निकले तुमने तो मुझे बताया भी नहीं रोशन मुझे कहने लगा यार मैं तुम्हें क्या बताता अब जाकर मुझे एहसास हुआ है कि पिंकी के दिल में भी मेरे लिए कुछ तो चल रहा है इसीलिए तो मैंने तुम्हें यह सब बातें बताई।

जब रोशन ने मुझसे यह कहा तो मैंने उससे कहा खैर यह सब बातें अब छोड़ो तुम मुझे यह बताओ कि हम लोग पिंकी से कब मिल रहे हैं। रोशन मुझे कहने लगा कि पहले मैं उससे अपने दिल की बात तो कह दूं उसके बाद ही तो हम लोग उससे मिल पाएंगे। मैंने रोशन से कहा हां क्यों नहीं तुम जरूर उससे अपने दिल की बात कहो तुम्हें किसी ने रोका थोड़ी है रोशन कहने लगा हां यार मुझे उससे अपने दिल की बात तो कहनी है। कुछ दिनों बाद रोशन ने मुझे बताया कि उसने पिंकी को अपने दिल की बात बता दी है और अब उन दोनों के बीच में रिलेशन भी चलने लगा है मुझे इस बात की खुशी थी कि चलो रोशन ने कम से कम किसी के साथ बात तो की। रोशन बहुत ही शर्मीला स्वभाव का है उसने आज तक कभी भी किसी लड़की से बात नहीं की थी जब हम लोग साथ में पढ़ा करते थे उस वक्त भी रोशन ने कभी किसी लड़की से बात नहीं की थी लेकिन अब वह पिंकी से बात करने लगा था। मुझे इस बात की खुशी भी थी कि चलो कम से कम रोशन ने किसी लड़की से तो बात की रोशन ने मुझे कहा कि चलो हम लोग कल पिंकी से मिलने के लिए चलते हैं कल तो तुम्हारे ऑफिस की भी छुट्टी होगी ना।

मैंने उससे कहा हां मेरे ऑफिस की भी छुट्टी है लेकिन सुबह मुझे थोड़ा काम है यदि तुम कहो तो मैं वह काम निपटा लेता हूं उसके बाद मैं तुम्हें मिलता हूं तो रोशन कहने लगा क्यों नहीं जैसे ही तुम फ्री हो जाओगे तो तुम मुझे फोन कर देना। मैंने रोशन से कहा मैं जैसे ही फ्री हो जाऊंगा तो मैं तुम्हें फोन करूंगा और उसके बाद हम लोग पिंकी से मिलने के लिए चलेंगे। मुझे सुबह अपनी मम्मी के साथ अस्पताल में जाना था और मैं अपनी मम्मी को लेकर अस्पताल चला गया मुझे अस्पताल में ज्यादा समय नहीं लगा और हम लोग वहां से घर लौट आए। जब मैं घर लौटा तो मैंने रोशन को फोन किया और कहा कि रोशन मैं तुम्हें थोड़ी देर में मिलता हूं वह मुझे कहने लगा ठीक है रजत तुम मुझे थोड़ी देर में मिलना हम लोग फिर पिंकी से मिलने के लिए चलते हैं। हम दोनों पिंकी से मिलने के लिए चले गए जब हम लोग पिंकी से मिले तो मुझे उससे मिलकर अच्छा लगा काफी बरसों बाद पिंकी से मेरी मुलाकात हुई थी और हम तीनों ने अपनी कुछ पुरानी यादें आपस में साझा की। मुझे इस बात की खुशी थी कि रोशन और पिंकी के बीच में अब प्यार हो चुका है और वह दोनों एक दूसरे को बहुत पसंद भी करते हैं मुझे अब घर जाना था तो मैंने रोशन से कहा कि क्या अब घर चले। रोशन कहने लगा हां रजत हम लोग चलते हैं और हम लोग अपने घर लौट आये रास्ते में हम लोगों की काफी बातें हुई। कुछ समय बाद पिंकी के परिवार वाले और रोशन के परिवार वाले इस रिश्ते को मान चुके थे और उनकी स्वीकार्यता अब इस रिश्ते को लेकर बन चुकी थी रोशन और पिंकी एक रिश्ते में बनने वाले थे उन दोनों की सगाई हो चुकी थी लेकिन मेरे लिए भी शायद यह अच्छा ही होने वाला था मेरे भाग्य में भी अब मीनाक्षी आने वाली थी। मीनाक्षी पिंकी की कजन बहन है और जब मुझे मीनाक्षी मिली तो जैसे मानो हम दोनों एक दूसरे के लिए ही बने हो और मुझे मीनाक्षी के साथ बात करना अच्छा लगता।

पिंकी ने मेरी बहुत मदद की और मीनाक्षी भी अब मुझसे बात करने लगी थी हम लोग आपस में मिलने भी लगे थे और एक दूसरे के साथ ज्यादा से ज्यादा हम लोग समय बिताने की कोशिश किया करते। रोशन और पिंकी की शादी का दिन भी अब नजदीक आ चुका था और उन दोनों की शादी बड़े धूमधाम से हुई जब उन दोनों की शादी हुई तो उस दौरान मीनाक्षी और मैंने जमकर डांस किया। मुझे तो अपने बचपन के दोस्त रोशन की शादी की बहुत खुशी थी और इस बात की भी खुशी थी कि पिंकी के रूप में उसे एक अच्छी पत्नी मिली है क्योंकि पिंकी बहुत ही अच्छी लड़की है मैं उसे काफी सालों से जानता हूं। रोशन भी दिल का बहुत ही अच्छा है उन दोनों की जोड़ी बहुत अच्छी लग रही थी और शादी के दिन सब लोगों ने उनकी बड़ी तारीफ की थी। मीनाक्षी और मेरे बीच में भी अब रिश्ता आगे बढ़ने लगा था और हम दोनों भी एक दूसरे के साथ ज्यादा से ज्यादा समय बिताने लगे थे। मुझे मीनाक्षी के साथ बात करना अच्छा लगता था और इसी दौरान मैंने भी मीनाक्षी से अपने दिल की बात कह दी। उसने मुझे कहा कि मुझे थोड़ा सोचने का समय चाहिए क्योंकि वह दुविधा में थी उसकी दुविधा का कारण मुझे पता नहीं था इसलिए मैंने उसे कहा कि तुम्हें जितना समय चाहिए तुम उतना समय ले लो।

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *