कस्टमर की बीवी की चुदाई

सबसे पहले आप सभी को मेरा नमस्कार. मैं रोज इस साइट में प्रकाशित कहानियां पढ़ता हूँ. तो मैंने सोचा आज अपनी भी जीवन की सच्चाई लिख डालूं. कहानी लिखने का ये मेरा पहली बार का अवसर है … अगर कुछ गलती हो जाए, तो मुझे क्षमा कीजिएगा.

मेरा नाम राज है, ये मेरा बदला हुआ नाम है. मैं बिलासपुर छत्तीसगढ़ का रहने वाला हूं शादीशुदा हूँ. मेरी उम्र 28 साल है, मैं एक मिडल क्लास फैमिली से बिलोंग करता हूँ और अपनी फैमिली के साथ ही रहता हूं. मेरा लंड एक औसत लंड से कुछ ज्यादा ही अलग है और ये किसी को भी संतुष्ट कर सकता है.

मैं एक कंपनी में कार्य करता हूँ. मेरा काम गाड़ियों की क़िश्त की उगाही करना है … और किश्त न पटाने पर गाड़ियों को सीज कर लेना है.

यह कहानी मेरी और मेरे कस्टमर की बीवी की है, जिसका नाम रेखा (बदला हुआ नाम) है.

रेखा के बारे में आपको बता दूं कि उसका चेहरा, उसका फिगर देख कर किसी का भी लंड खड़ा हो जाएगा. उसका फिगर 38-30-40 का है, वो एकदम मस्त माल है. उसका एक 8 साल का लड़का भी है. रेखा की उम्र 38 साल है.

मुझे लड़कियों से ज्यादा शादी शुदा औरतें चोदना ही पसंद हैं. भाभी आंटी मुझे अपने लंड के लिए बहुत ही ज्यादा पसंद आती हैं … क्योंकि वे खुल कर बेझिझक चुदवाने का मजा लेती और देती हैं.

यह बात आज से 3 महीने पहले की है. एक कस्टमर, जिसका नाम बिरजू (बदला हुआ नाम) है, उसने मेरी कंपनी से एक 1109 ट्रक फाइनेंस करवाया था. वो उसकी किश्त पटाने में नाटक किया करता था. मेरे दोस्त, जो मेरे साथ में किश्त वसूली का काम करते थे. उन्होंने एक दिन मेरे को बताया कि ये बिरजू बहुत परेशान कर रहा है. वो घर में तो मिलता ही नहीं है … और कॉल भी नहीं उठाता है, इसका क्या किया जाए?

उन्होंने मुझे अपना दोस्त समझ कर मुझे बताया क्योंकि मेरा काम 3 किश्त ऊपर होने के बाद आता है … और उसकी तीसरी किश्त आने वाली थी.

मैं अपने दोस्त से बोला- कोई बात नहीं भाई देखते हैं, एक बार मुलाकात हो जाएगी तो वो समझ जाएगा कि अब केस मेरे पास आ गया है.
मैंने अपने दोस्त, जिसका नाम रॉकी था. मैंने उससे बोला कि चल भाई, बस तू मुझे उसका घर दिखा दे. फिर मैं अपने हिसाब से देखता हूँ.

हम दोनों उसके घर की ओर निकल पड़े. उसका घर मेरे ऑफिस से कुछ ही दूरी में था. रॉकी ने उनके दरवाजे के पास गाड़ी खड़ी की और आवाज लगाई.
उधर से एक लेडी आई. उसने दरवाजा खोला.

रॉकी ने उससे बात की और मुझसे कहा कि कस्टमर घर पर नहीं है.

मैंने तब तक उस लेडी की तरफ देखा ही नहीं था. उस लेडी ने, जिसका नाम रेखा था, उसने रॉकी से मेरे बारे में पूछा. रॉकी ने उन्हें बताया कि ये राज है, आज से यही आपका केस देखेंगे.

तब मैंने पहली बार उसकी तरफ देखा तो मेरे होश ही उड़ गए. मैंने उसे नमस्ते बोला. उसने भी मुझे स्माइल करते हुए नमस्ते बोला. मैं तो एक मिनट उसे देखते ही रह गया. उस समय सुबह के 10 बजे थे, वो नाइटी में थी. नाइटी में रेखा क्या गजब माल लग रही थी. मैं आप लोगों को बता नहीं सकता.

बस फिर मैंने रॉकी से कहा- कस्टमर का फोन नंबर क्या है, फोन लगा जरा.
उसने कॉल किया तो कस्टमर (बिरजू) का फोन मोबाइल बंद आ रहा था.
रॉकी ने मुझसे कहा कि भाभी का नंबर ले ले, जब आएंगे … तो बता देंगी.
मैंने बोला- उनको मेरा नंबर दे दे.
उसने वैसा ही किया. अब हम लोग वहां से निकल आए.

मैं बाइक के पीछे बैठा था, जैसे ही निकले … मैंने पीछे मुड़कर देखा तो वो अन्दर जा चुकी थी.

अब मैंने रॉकी से बोला कि भाई ये कस्टमर बिरजू करता क्या है?
तो उसने बताया कि वो ड्राइवर है. गाड़ी ख़ुद ही चलाता है और बहुत कम घर आता है.
तो मैं बोला- यार, इसकी बीवी तो एकदम बम माल है.
उसने बताया- मैंने भी चांस मारा था, पर उसने कोई रिस्पॉन्स नहीं किया.
मैंने उससे पूछा- यार, इसका नाम क्या है.
तब मुझे रॉकी ने बताया इसका नाम रेखा है.

मैंने रेखा की डिटेल जाननी चाही, तो उसने ये भी बताया कि फेसबुक भी चलाती है, क्योंकि घर में अकेले ही रहती है. इसका बच्चा शाम को 4 बजे आता है … और बिरजू तो पता नहीं कब आता है, कब जाता है.

अब हम दोनों बात करते करते चकरभाठा आ गए थे. ये जगह बिलासपुर से 12 किलोमीटर की दूरी पर है. वहां रॉकी का कस्टमर था, उससे किश्त लेना था. इसलिए मैं भी उसके साथ में चला गया था.

करीब 30 मिनट बाद मेरे मोबाइल पर एक अननोन नंबर से कॉल आया. मैंने रिसीव किया. उधर से आवाज़ आई- हैलो, राज जी बोल रहे हो?
मैंने बोला- हां जी बोल रहा हूँ. आप कौन?
तो उसने बताया कि जी मैं रेखा बोल रही हूं.
मैंने बोला- कौन रेखा?
तो बोली- अभी आप आए थे न … मैं बिरजू जी के घर से बोल रही हूँ.
मैं बोला- जी जी … बोलिये?

Pages: 1 2 3 4

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *