भाई ने चूत की खुजली मिटाई

पढ़ कर मुझे अपने मेल भेज कर प्रोत्साहित किया तो मैं अपनी एक और कहानी आपको बताने जा रही हूँ. मुझे मेरे मम्मी पापा बहुत प्यार करते हैं और मैं जो बोलती हूँ वो करते हैं. शायद इसलिए मुझे चुदवाने का भी मौका मिल जाता था क्योंकि मेरे मम्मी मुझे किसी भी चीज के लिए ज्यादा डांटती नहीं हैं. मैं चाहे रात को देर से घर आऊँ और दिन में किसी से फ़ोन पर बात करूँ, उनको इन सब से ज्यादा मतलब नहीं रहता है.
मुझे बस मम्मी और पापा तब डांटते हैं जब मैं कभी कभी कभी गलती से ड्रिंक कर लेती हूँ. मैं भी क्या करूँ … मेरी सहेलियां मुझे जबरदस्ती पिला देती हैं.

मैं अपनी कहानी बताने से पहले आप सबको अपने बारे में बता देती हूँ. मेरी बॉडी बहुत मेन्टेन है और मेरी हाइट भी अच्छी है. मतलब कि दिखने में मैं आइटम लगती हूँ. मेरा बॉयफ्रेंड मुझे आइटम ही बुलाता है. वो अलग बात है कि मेरा अब उससे ब्रेकअप हो गया है.

जब ब्रेकअप हो जाता है तो घर में ही सेक्स के लिए जुगाड़ बनाना पड़ता है या किसी रिश्तेदार के साथ सेक्स करना पड़ता है. मैंने भी ऐसा ही किया, अपने भाई को ही पटा लिया. या उसने मुझे पटाया? आपको मेरी कहानी पढ़ने के बाद ही पता चलेगा.

मेरा भाई कोई और नहीं, मेरी रिश्तेदारी में एक चाचा हैं, उनका बेटा है जिसका मेरे घर हमेशा आना जाना लगा रहता है. उसका घर मेरे घर से थोड़ी ही दूर पर है इसलिए उसकी मम्मी भी हमारे घर आती रहती हैं.

मैं शहर की रहने वाली हूँ तो आप लोगों को तो पता होगा कि मैं कितना फैशन में रहती हूँ. और मैं ही क्या … शहर की सारी लड़कियां ही फैशन में रहती है. मुझे फैशन का बहुत शौक है और जब भी मेरे चाचा का लड़का आता है, जिसको मैं भाई बोलती हूँ, वो मेरे जिस्म की खुशबू से ही मदोश हो जाता है. हम दोनों भाई बहन जब भी मिलते हैं, एक दूसरे का हाल चल लेते रहते हैं.
मेरी मम्मी और उसकी मम्मी बहुत अच्छी दोस्त थी इसलिए मेरे भाई को मेरे घर आने में कोई दिक्कत नहीं होती थी. वो जब भी मेरे घर आता था उसको कोई कुछ नहीं कहता था. वो भले ही मेरे रिश्तेदार के चाचा का लड़का था लेकिन हम लोग उसको अपने परिवार की तरह मानते थे.

मेरा ब्रेकअप हुए कई दिन हो गए थे और मुझे बहुत अकेलापन महसूस होता था. मैं इसी अकेलेपन को दूर करने के लिए अपने भाई से बात से बातें करने लगी. अब हम लोगों की रोज बातें होने लगी और वो भी मेरे घर रोज आने जाने लगा. हम दोनों लोग इसी बीच थोड़ा करीब आ गए. अब मुझे अपने बॉयफ्रेंड की थोड़ी कम याद आती थी. मैं अपने भाई के साथ ही अपने अकेलेपन को दूर करती थी.

हम दोनों लोग कभी कभी घर में अकेले रहते थे तो छत पर जाकर बातें करते थे ताकि हमारी बातें कोई सुने नहीं और हमने बातें करते करते कब एक दूसरे की केयर करना शुरू कर दिया, हम दोनों लोग को पता ही नहीं चला.

मैं अपने बॉयफ्रेंड के साथ चुदवाती थी तो मुझे अब चुदवाने का मन करने लगा. मैं कैसे रह सकती थी बिना चुदवाये और अब तो मैं कैसे भी अपनी चूत में उंगली करके अपने आपको शांत करती थी. मेरे करीब अब मेरा भाई था जिससे मैं ज्यादा बात करती थी. हम दोनों एक दूसरे से बातें करते करते थोड़ा खुलने लगे, वो भी अपनी पर्सनल बातें मुझसे शेयर करने लगा. मुझे बाद में पता चला कि उसकी कोई गर्लफ्रेंड है तो मैं थोड़ी मायूस रहने लगी और उससे बातें करना भी कम कर दी क्योंकि मुझे उसकी गर्लफ्रेंड से जलन सी महसूस हुई. असल में मैं अपने भाई को अब वासना की दृष्टि से देखने लगी थी.

एक दिन वो मेरे घर आया और मैं अपने बेडरूम में थी तो वो मेरे बेडरूम में चला आया. मैं अपने मोबाइल में गाना सुन रही थी. मेरे घर के लोग ज्यादातर बाहर ही रहते हैं या कभी कभी घर में रहते है तो नीचे रहते हैं और मैं ऊपर अपने रूम में रहती हूँ.
वो मुझे आकर बोला- आजकल तुम मुझसे बात क्यों नहीं कर रही हो? मैं तुमको कितना याद करता हूँ!
और बातों बातों में उसने मुझे किस कर दिया.

मुझे मेरे पुराने दिन याद आ गए जब मेरा बॉयफ्रेंड मुझे किस करता था. मेरा भाई मुझे किस किया तो मैं उसकी तरफ देखने लगी लेकिन मेरी आँखों में कोई विरोध नहीं था. उसने मुझे एक बार और किस किया और बोला- बताओ, तुम मुझसे कई दिन से क्यों नहीं बातें कर रही हो?
मैं उसको बोली- तुम तो अपनी गर्लफ्रेंड के साथ बिजी हो! तो मैंने सोचा कि तुमको परेशान नहीं करूँ.
तो वो बोला- तुम मेरे लिए मेरे गर्लफ्रेंड से भी बढ़ कर हो. मैं जितना अपनी गर्लफ्रेंड से बात नहीं करता हूँ उतना तुमसे बात करता हूँ.

Pages: 1 2 3

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *