बारिश में भीगी नारी की चुदाई गाथा

अंतर्वासना के सारे पाठकों को रश्मि शर्मा का नमस्कार। दोस्तों इस के पहले मेरी एक कहानी
मुझे दूध वाले ने चोदा
अंतर्वासना पर प्रकाशित हो चुकी है, और इसके जवाब में मुझे दो हजार से भी ज्यादा पाठकों के मेल मिले हैं।
अंतर्वासना के पाठकों की डिमांड पर मैंने एक और कहानी लिखी है। लेकिन जहां मेरी पहली कहानी मेरा सच्चा अनुभव थी वहीं यह दूसरी कहानी काल्पनिक है। इसमें सिर्फ मेरे नाम और मेरे शहर के नाम को छोड़कर सभी कुछ काल्पनिक है।
तो ज्यादा वक्त ना लेते हुए मैं आपको अपनी कहानी पर ले चलती हूं।

मेरा नाम रश्मि है, मैं नासिक में रहती हूं। मेरी उम्र 24 साल है और मेरा फिगर 34c -29-36 है। मैं जब चलती हूं तो लड़कों के लंड खड़े हो जाते हैं।
मुझे अपने बॉयफ्रेंड से चुदने में बहुत मजा आता है। पोर्न मूवी देखना मुझे बेहद पसन्द है। मोटे और लंबे लंड मुझे बहुत अच्छे लगते हैं। मुझे साफसुथरा रहना पसंद है और मैं हमेशा अपनी चूत के बाल हटा कर चूत को चिकना करके रखती हूँ।

दोस्तो, एक दिन की बात है, मैं किसी काम से कहीं जा रही थी। मैंने लाल रंग का टॉप तथा नीले रंग की जीन्स पहन रखी थी। अन्दर मैंने काले रंग की ब्रा और काली ही पारदर्शी पैंटी पहनी हुई थी।
अचानक जो़रदार बारिश होने लगी और मैं पूरी तरह से भीग गई। मुझे एक मकान के बरामदे में शरण लेनी पड़ी। मेरे कपड़े मेरे बदन से पूरी तरह चिपक गए थे और मेरा पूरा फिगर स्पष्ट दिखाई दे रहा था।

तभी घर के अंदर से एक सुंदर नौजवान बाहर निकला और मुस्कुरा कर मुझसे बोला- मैडम, वैसे तो आप इन भीगे हुए कपड़ों में बेहद खूबसूरत लग रहीं हैं, लेकिन फिर भी यह नज़ारा बाकी लोगों को नहीं दिखाई दे, इसलिए कृपया घर के अंदर आ जाइये।
दोस्तो, मालूम नहीं उसके शब्दों में क्या जादू था कि मैं खींची हुई घर के अंदर चली गई।

उसने मुझे बैठने के लिए एक कुर्सी दी और एक तौलिया दिया अपना बदन को पौंछने के लिए।
वह नौजवान फिर बोला- मैडम, आप तो पूरी तरह भीग गई हैं, और मेरे पास लड़कियों के कोई कपड़े भी नहीं है। कृपया बतायें कि मैं किस तरह आपकी मदद कर सकता हूं?
मैं नजरें नीची करके बोली- अगर संभव हो तो आपका कोई टीशर्ट मुझे पहनने के लिए दे दीजिए।
उसने मुस्कुराकर अपना एक टी-शर्ट मुझे दिया और इशारे से वॉशरूम का रास्ता बताया।

मैंने वॉशरूम जाकर अपना टॉप और जींस उतारे, लेकिन मेरी ब्रा और पैंटी भी भीग गए थे। मुझे उनको भी उतारना पड़ा। पूरा बदन पौंछकर मैंने उस लड़के का टीशर्ट पहन लिया। टी शर्ट मेरी जांघों तक आ रहा था। मैं अपने भीगे हुए कपड़े तथा तौलिया लेकर बाहर आ गई।
मैंने उस लड़के से पूछा- मैं अपने गीले कपड़े कहां सुखा सकती हूं?
उसने मुस्कुरा कर कहा- मैडम, मेरा नाम रवि है।
और मेरे हाथ से कपड़े लेकर उसने वहीं कमरे की सेंटर टेबल पर फैला दिये।

मुझे सिर्फ टीशर्ट में रवि के सामने शर्म तो आ रही थी लेकिन मन ही मन मैं भी उससे प्रभावित होकर उसे लाईक करने लगी थी।

उसने मुझसे पूछा- मैम आपका नाम क्या है?
मैंने उसे अपना नाम बताया।

अब उसने मुझसे पूछा- रश्मि, अगर आप इजाज़त दें तो आपके अंडरगारमेंट्स ट्रैवलिंग आयरन से सुखा कर आप को दे दूं?
इसके पहले कि मैं कुछ बोल पाती, उसने मेरी ब्रा और पैंटी को उठाकर अपनी ट्रैवलिंग आयरन से प्रेस करना शुरू किया लेकिन उसकी ट्रैवलिंग आयरन भी खराब पड़ी थी।

मैं उसके सामने के सोफा पर बैठ गई और बैठने के कारण टीशर्ट थोड़ा और ऊपर की तरफ सरक गया था जिसकी वजह से मेरी जांघें और ऊपर तक दिखने लगी। शायद रवि को मेरी चूत देखने की इच्छा थी, इसलिए उसने जानबूझकर मेरी ब्रा और पैंटी को मुझे लौटाने समय नीचे गिरा दिया और उठाने के बहाने नीचे झुक कर मेरी जांघों को देखने लगा।

शायद उसे मेरी चूत दिखाई दे गई। वो मुस्कुराकर मेरी पैंटी की तरफ इशारा करते के धीरे से बोला- हे भगवान! इस छोटे से कपड़े को आपकी कितनी प्यारी सी चीज़ को छिपाने का सौभाग्य मिला है। रश्मि, अगर आप अनुमति दें तो क्या मैं आपकी इस प्यारी सी चीज़ का एक बार दर्शन कर सकता हूँ?
मैंने शर्माते हुए अपना सिर हाँ में हिलाया।

रवि ने तुरंत ही मेरी टी शर्ट को नितंब तक ऊपर उठा दिया और मेरी चिकनी चूत देखने लगा। मैंने शरमा कर अपनी आँखों को बंद कर लिया।
रवि के कहने पर मैंने आँखें खोली।
मेरी आंखों में आंखें डाल कर वो बोला- रश्मि, तुम्हारी चूत तो बेहद चिकनी है। क्या मैं इसे एक बार चूम सकता हूं?
मैं धीरे से ‘जी’ बोलकर रह गई।

इतना सुनते ही उसने मुझे नितम्ब से पकड़कर खींचा और मुझे सोफे पर लेटा कर मेरी चूत पर अपने अधर रख दिये और चूत को चूसने लगा।
मैं बहुत उत्तेजित होने लगी और मैंने अपने हाथों से उसके सिर को अपनी चूत में दबाना शुरू किया, तथा उसके बालों में अपनी उंगलियां घुमाने लगी। कुछ ही सेकंड्स में उसने मेरा टी शर्ट उतार कर मुझे पूरी नंगी कर दिया और अपने कपड़े उतार कर खुद भी नंगा हो गया।

Pages: 1 2 3 4

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *