मैं बहनचोद बन गया

Antarvasna मे 21 साल हूँ ओर दिल्ली मे रहता हूँ. मेरी फॅमिली मे हम चार लोग हे. पापा हे ओर माँ हाउसवाइफ हे. ओर मे स्टूडेंट हूँ. और एक बहन है। उसकी उम्र 24 साल हे। अभी तक उसकी शादी नही हुई. रंग सांवला पतली कमर नॉर्मल साइज़ बोब्स ओर गांड हल्की बाहर निकली हुई हे. उसका
कोई बॉय फ्रेंड भी नही हे. क्यूकी वो सारा दिन घर पर ही रहती हे बिकॉज़ हमारी फॅमिली मे लड़कियो को ज्यादा छुट नही हे बाहर जाने की।

हमारे घर मे सब के अलग अलग कमरे हे. पापा ओर माँ एक कमरे मे सोते हे जो की फर्स्ट फ्लोर पर हे ओर सेकेंड फ्लोर पर दो कमरे हे जिसमे एक मे मे ओर दूसरे मे सिस्टर सोती हे ओर ग्राउंड फ्लोर पर किरायेदार रहते थे पर पिछले दो महीनो से वो हमने किराए पर नही दिया था।
मे अपनी स्टोरी पर आता हूँ बात आज से कोई दो महीने पुरानी हे मुझे बचपन से ही ब्लू फिल्म देखने का शोक था ओर सेक्स स्टोरी भी पढ़ने का बहुत शोक था ओर मे मुठ भी बहुत मारता था इसका अंजाम ये हुआ था की मेरा लंड कुछ ज्यादा ही मोटा था पर वो ज्यादा लंबा नही था पर वो 4 से 5 इंच लंबा है. मे दीदी को कभी भी बुरी नज़र से नही देखता था।
पर वो कभी कभी झाड़ू झुक के लगाती थी तो उसके चुचियो के दर्शन हो जाते थे. पर उन्हें चोदने का ख्याल कभी नही था. एक दिन मे रात को ब्लू फिल्म देख के बाथरूम मे मुठ मारने गया रात करीब एक बज रहा था ओर मैने बस अंडरवेयर पहन रखा था मे दीवार की तरफ मुहँ कर के मुठ मारे जा रहा था जिस बाथरूम मे मुठ मार रहा था ये हमारे फ्लोर पर और हमारे कमरे के साथ मे ही हे।
जब मे मुठ मार रहा था जब मुझे अपने पीछे ऐसा लगा कोई खड़ा हे पर मेरी हिम्मत नही हुई पीछे मुड़ने की मे रात मे बिना बाथरूम के दरवाजा बंद करे ही मुठ मारता था जब मैने हिम्मत करके पीछे मूड कर देखा तो मेरी सिस्टर दौड़ के अपने कमरे मे घुस रही थी ओर उसने अपना कमरे के दरवाजा बंद कर लिया था वो मुठ बाथरूम करने आई थी उसने ये बात मुझे बाद मे बताया था।
अगले दिन वो खुश नज़र आ रही थी मैने इतना खुश उसे पहले कभी नही देखा था जब मैं अंगड़ाई लेकर अपने रूम से बाथरूम की तरफ बढ़ रहा था तो वो मेरी तरफ देख के मुस्कुराई मैने नज़रे झुका ली ओर मे समझ गया की ये रात वाली घटना को देखकर ये सब हो रहा हे।
मैने जल्दी से फ्रेश हुआ ओर खाना खाने बैठ गया मुझे बार बार रात का ख्याल आ रहा था की ये बात वो माँ को ना बता दे. पर उसने ऐसा कुछ नही किया कुछ दिन ऐसे ही बीत गये अचानक गाँव से फोन आया की नानी की तबीयत कुछ ज्यादा ही बिगड़ गई हे. माँ ओर पापा शाम की ट्रेन से गाँव निकल गये अब घर मे मैं ओर मेरी सिस्टर ही रह गये हमने रात का खाना खाया ओर सो गये अगले दिन पापा का फोन आया की उन्हे गाँव मे 15 से 20 दिन लग जाएँगे।
मैने ये बात अपनी सिस्टर को बता दी. उसके बाद मे सोफे पर बैठ कर टीवी देखने लगा ओर वो झाड़ू लगाने लगी वो बैठ के झाड़ू लगा रही थी जिससे उसके बोब्स का कुछ पार्ट दिखाई दे रहा था जिसे मे तिरछी नज़र से देख रहा था ये बात उसको भी पता थी की मे उसके मुम्मो को देख रहा हूँ. मुझे आज अपनी बहन कुछ ज्यादा ही सेक्सी लग रही थी मे उसकी तरफ ज्यादा देख रहा था. दोपहर के समय मे उसके साथ बैठ कर कुछ इधर उधर की बातें करने लगे फिर अचानक मैने उस से पूछा की दीदी तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड हे तो उसने मुझे सीधे मना कर दिया ओर मेरे से पूछा की तू आज ये बात क्यू पूछ रहा हे मैने बोला ऐसे ही. तो फिर उसने मुझसे पूछा की तेरी कोई हे मैने भी मना कर दिया उसने मुझसे से पूछा की तू तो इधर उधर जाता हे फिर भी तेरी नही हे. मैने कहा नही दीदी कोई अभी पसंद नही आई हे।
उसने कहा ठीक हे मे दीदी से खुलने लगा फिर रात हो गई मे ओर दीदी खाना खा कर टीवी देखने लगे मैने एक इंग्लीश मूवी लगा दी जिसमे कुछ देर तो फाइट चली फिर कुछ देर बाद अचानक सेक्सी सीन आ गया जिसमे हीरो की फ्रेंच किस लेता हे ओर बोब्स दबाता हे ये देख कर दीदी कुछ गर्म हो गई ओर मे भी फिर वो सीन खत्म हो गया ओर दीदी ने मेरे तरफ देखा ओर शर्मा गई ओर मेरे से कहा की मे सोने जा रही हूँ ओर वो अपने कमरे मे चली गई कुछ देर बाद मे भी अपने रूम मे चला गया पर मुझे रात मे नींद नही आ रही थी मे उठा ओर दीदी के कमरे मे चला गया मुठ गया तो देखा दीदी भी जाग रही थी मैने पूछा नींद नही आ रही तो उन्होने कहा नही।
दीदी बहुत सेक्सी लग रही थी उन्होंने नाइट ग्राउन पहन रखा था नाइट बल्ब की रोशनी मे वो बहुत कामुक लग रही थी फिर हम कुछ देर बाद सो गये रात करीब 1:30 बजे मेरी नींद खुली मे दीदी को देख हैरान हो गया दीदी की एक टाँग मेरे टाँग के ऊपर थी ओर उनका ग्राउन घुटनो से ऊपर था ये देख मे उत्तेजित हो गया ओर दीदी के घुटनो पर हाथ फैरने लगा उनका शरीर छुने से ही मेरे बदन मे बिजली सी दौड़ गई क्या मखमली बदन था वो सावला बदन कातिल सा लग रहा था. मैने अपना एक हाथ चुचो पर रखा वाह क्या चुचे थे मानो मे स्वर्ग मे पहुँच गया. सॉफ्ट उसके चुचे थे कुछ देर उसका बदन सहलाने के बाद वो जाग गई ओर मेरी तरफ देख कर बोली राज ये तुम क्या कर रहे हो मे भी थोडा सा डर गया था फिर वो बोली।
आने दो माँ को मे सारी बात बताउंगी मैने कहा माँ को मत बताना तो उसने कहा नही बताउंगी उसने मुझे समझाया की ये सब ग़लत बात हे ये भाई बहन के बीच नही हो सकता ओर वो तिरछी नज़र से मेरे अंडरवेयर की तरफ भी देख रही थी जो की टेंट बना हुआ था मतलब की लंड खड़ा था।
मे समझ गया की दीदी का मन भी हे चुदाई का. मैने तुरंत दीदी से कहा की हम भाई बहन से पहले एक मर्द ओर औरत हे और हम एक दूसरे की इच्छा को पूरा कर सकते हे. दीदी ने कहा की अगर बाहर किसी को पता लग गया तो हमारी बदनामी हो जाएगी समाज मे. मैने कहा दीदी जब हम किसी को बताएँगे ही नही तो बाहर किस को पता चलेगा ये बात हम दोनों के बीच मे ही रहेगी. मैने दीदी की मुहँ की तरफ देखा तो मे समझ गया की दीदी भी राज़ी हे।
मैने टाइम वेस्ट ना करते हुए अपने हाथ दीदी के नर्म हाथ पर रखे ओर एक लम्बी फ्रेंच किस करने लगा ओर अपने दोनों हाथ दीदी के बोब्स पर रख के धीरे धीरे प्रेस करने लगा मुझे स्वर्ग का अनुभव लगा की जैसे मे किसी अप्सरा को किस कर रहा हूँ. दीदी ने भी मुझे कस के जकड़ लिया ओर मेरा पूरा साथ देने लगी. दीदी का हाथ मेरे लंड की ओर बढ़ा ओर उन्होने मेरा लंड एक हाथ से थाम लिया ओर ज़ोर से दबाने लगी उन्होने अंडरवेयर के उपर से मेरे लंड को सहलाना जारी रखा. मैने किस खत्म किया ओर दीदी से कहा की जन्नत के दर्शन करवा दो दीदी ने कहा खुद कर लो मैने दीदी का ग्राउन दीदी के बदन से मुक्त कर दिया दीदी ने अंदर एक टाइट ब्रा ओर पेंटी पहन रखी थी।
बहुत ही सेक्सी लग रही थी वो सेक्स की देवी लग रही थी उनकी पेंटी ओर ब्रा पिंक कलर की थी दीदी के बोब्स ज्यादा बड़े तो नही पर सेक्सी थे।

Pages: 1 2 3 4

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *