मॉम की चुदाई आंखों देखी

मैं भूमिका बनाने में आपका बहुत समय खराब नहीं करूँगी. ये उस समय की बात है, जब मेरी उम्र 18 साल की थी. हम और हमारे चाचा ताऊ सब एक ही आंगन में बने घरों में रहते थे … बाद में अलग अलग हुए थे. उस वक्त मेरे ताऊ जी के बेटे परेजू की उम्र 19-20 रही होगी.

एक दिन गर्मियों के मौसम में भरी दोपहर को वो और मैं ऐसे ही पकड़ा पकड़ी का खेल, खेल रहे थे. मैं भागते भागते अपने घर के पहली मंजिल पर डैड मॉम के बेडरूम के सामने से निकली, तो मुझे मॉम के खिलखिलाकर जोर से हंसने की आवाज़ सुनाई पड़ी. मैं थोड़ा उधर रुक कर एक खिड़की में से झांकने लगी, तो मेरी सांस रुकी की रुकी रह गई. मैंने देखा मेरी मॉम एकदम नंगी होकर पलंग के सिरहाने पर तह करके रखे गए बहुत सारे कपड़ों के ऊंचे से ढेर पर चढ़ी बैठी हैं और डैड भी नंगे खड़े उनसे कुछ कह रहे थे.

मैंने चुप होकर तमाशा देखना शुरू किया, तब तक परेजू मेरे पीछे आ चुका था. उसे भी मैंने इशारा करके चुपचाप खड़ा होने को कहा. वह भी मेरे पीछे सट कर खड़ा हो गया और अन्दर उचक उचक कर देखने लगा.

मेरी मॉम की उम्र लगभग 37 साल की थी. वह बहुत ही सुन्दर हंसमुख और सेक्सी दिखती थीं. उनके काले घने और लम्बे बाल उस समय खुले हुए लहरा रहे थे. मॉम की गोल गोल मोटी गांड बहुत सुन्दर लग रही थी. उनकी सुडौल बांहें और टांगें एकदम किसी अप्सरा को भी मात देने वाली थीं … और चूची की तो बस पूछो ही मत. मॉम की चूचियां 34-या 36 इंच की साइज़ की गोल चूचियां थीं. उन पर मोटे से दिख रहे निप्पल, ऐसे दिख रहे थे, जैसे अभी किसी ने चूस कर बड़े कर दिए हों.

मॉम आज कुछ ज्यादा ही बेशर्म हो रही थीं. वैसे भी वो थोड़ी सी ज्यादा बोल्ड तो हैं ही. लेकिन आज उन्होंने अपने हाथों से अपनी चूत को चौड़ा किया हुआ था और ऊंचाई पर बैठीं, डैड को चिढ़ा रही थीं. उनकी चूत का द्वार खुला था और अन्दर से लाल लाल एक छोटी सी गुफा जैसे दिख रही थी. उनको इस स्थिति में देखकर मेरा हाथ अनायास मेरी चूत सहलाने लगा. परेजू कब मेरे बदन से सट कर खड़ा हो गया, मुझे पता ही नहीं चला. उसका लंड मेरी गांड को छू रहा था. मुझे उसका लंड बहुत अच्छा लग रहा था … पर वह थोड़ा डर रहा था और मैं भी असमंजस में थी कि वह आखिर है तो मेरा भाई.

इसी बीच डैड ने मॉम से कहा- आओ नीचे को रपट कर आओ, मेरा लंड तेरी चूत की चुम्मी लेने को तैयार है.

ये कह कर डैड कपड़ों के उस ऊंचे ढेर के निचले सिरे पर अपने हाथ से लंड को सीधा पकड़ कर निशाना साध कर बैठ गए थे. मॉम खिलते हँसते ऊपर से रपट कर तेजी से नीचे आईं और गप्प से लंड के ऊपर अपनी चूत को साधते हुए डैड की गोद में ऐसे गिरीं कि डैड लंड फट से मॉम की चूत में समां गया.

ये नज़ारा वाकयी देखने लायक था. भरी दोपहरी सब तरफ गर्मी के मारे सन्नाटा था … और मॉम डैड का एक रूम में ये सेक्सी खेल खेल रहे थे, जो मजेदार और अनोखा ही था.

जैसे ही मॉम डैड की गोद में गिरीं … डैड ने उसी जगह से मॉम को धक्के मार मार कर चोदना शुरू कर दिया.

मेरी हालत ख़राब हो रही थी. परेजू डरा डरा सा था, वो कुछ खास नहीं कर रहा था … मैं उसकी छोटी बहन जो थी.

अब मुझसे भी रहा नहीं गया. परेजू के लंड को मैं महसूस तो कर रही थी और यह भी पता चल रहा था कि वो एकदम लंड तान कर मेरे पीछे खड़ा हुआ है. उसके लंड के अन्दर रह रह कर दिल की धड़कन जैसी हरकत भी पता चल रही थी. पर मेरा मन कर रहा था कि अब तो ये लंड अन्दर ही घुस जाए. या कम से कम गांड की फांक में ही सैट हो जाए. इसलिए मैंने धीरे धीरे अपनी गांड पीछे सरकाई और उसके लंड को गांड की फांक में सैट करने लगी. परन्तु वह थोड़ा पीछे खिसक गया. तभी मैंने उसे अन्दर का सीन दिखने के बहाने अपने करीब और सट कर खड़ा होने का इशारा किया. जब वह करीब आ गया, तो मैंने अपनी गांड की सैटिंग उसके लंड के हिसाब से ऐसी कर ली कि उसका फड़कता लंड मेरी गांड की फांक और गांड के छेद पर धड़कने लगा.

अब मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. उसकी गरम सांस भी मेरे कान पर महसूस हो रही थी. थोड़ी देर बाद मैंने देखा कि वो खुद भी मेरी गांड से अपना लंड हटने नहीं दे रहा था.

अन्दर कमरे में डैड ने मॉम को कपड़ों के ढलान से टिका लिया था और मॉम अपने बालों को दबने के चक्कर में अधलेटी सी उचक उचक कर लंड पर झूल रही थीं. डैड मॉम की चुचियों को मुँह में लेकर जोर से चूस रहे थे.

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *