माँ को डॉक्टर ने चोदकर खुश किया

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम आकाश है, मेरे घर में हम चार लोग है। मेरे पिताजी जिनकी उम्र 42 साल, मेरी माँ उनकी उम्र 36 साल, मेरी दीदी उनकी उम्र 22 साल और मेरी उम्र 18 साल है। दोस्तों मेरी माँ दिखने में बहुत ही सेक्सी औरत है। उनके बूब्स का आकार 34-30-36 है और उनके बूब्स और गांड को देखकर तो किसी के भी लंड से पानी निकल जाए। दोस्तों मेरी माँ मुझसे और मेरे अंकल से अपनी चुदाई करवाकर बहुत खुश थी और मैंने भी जमकर उनकी चुदाई के बड़े मस्त मज़े, लिए इसलिए में भी पूरी तरह से संतुष्ट था। एक दिन मम्मी ने मुझे अपने पास बुलाया और कहा कि आकाश बेटा शायद तुमसे चुदाई करवाने की वजह से इस महीने मुझे पीरियड्स नहीं आए है और इसलिए मुझे लगता है कि शायद उस चुदाई की वजह से मेरे गर्भ में तुम्हारा बच्चा ठहर गया है।

अब हमे जल्दी से हॉस्पिटल जाकर इस बात को पूरी तरह से संतुष्ट कर लेना चाहिए वरना इसकी वजह से हमारे सामने कोई समस्या खड़ी ना हो जाए। फिर हम दोनों तैयार होकर हॉस्पिटल चले गये वो रविवार का दिन होने की वजह से हॉस्पिटल में ज़्यादा भीड़ नहीं थी और हम लोग वहां पर आखरी मरीज थे। फिर डॉक्टर ने मम्मी को अपने कमरे के अंदर बुला लिया और उनको पूछा कि आपको क्या समस्या है? मम्मी ने कहा कि मुझे इस महीने पीरियड्स नहीं आए है और इस बात से मेरे मन में डर है कि कहीं बच्चा ना ठहर गया हो। अब डॉक्टर ने कहा बच्चा ठहर गया तो उसमे क्या समस्या है? यह तो बड़ी खुशी की बात है। अब मम्मी ने उनको अंकल और मुझसे चुदाई की बात डॉक्टर को साफ साफ बता दी जिसको सुनकर डॉक्टर का लंड पेंट के अंदर ही तनकर खड़ा हो गया। फिर वो मम्मी का मुआयना करने लगा और उसने मम्मी से लेटने के लिए कहा और जब मम्मी लेट गयी तो उसने पहले स्टैथौस्कोप अपने कानो में लगाकर मम्मी की छाती पर रख दिया और फिर धीरे धीरे वो सहलाने लगा। अब माँ ने भी डॉक्टर का लंड उसकी पेंट के ऊपर से ही सहलाना शुरू कर दिया और पूरा मुआयना करने के बाद डॉक्टर ने उनको कहा कि आप अभी गर्भवती नहीं है और फिर वो इतना कहने के बाद तुरंत ही मेरी मम्मी के मुहं में अपने मुहं को लगाकर उनको चूमने लगा था।

फिर कुछ देर बाद मम्मी भी गरम हो चुकी थी। उस कमरे में पूरा माहोल गरम हो चुका था। अब माँ ने जोश में आकर अपने सभी कपड़े एक एक करके उतार दिए और डॉक्टर ने भी यह सब देखकर बिना देर किए अपने कपड़े उतारने शुरू कर दिए। दोस्तों बस फिर क्या मस्त नज़ारा था वो? माँ ने नीचे झुककर डॉक्टर के लंड को तुरंत अपने मुहं में ले लिया और वो लगी उसको चूसने और डॉक्टर ने भी माँ के बूब्स को दबाना शुरू कर दिया और वो उनको चूसने भी लगा था। अब माँ के मुहं से ऊओहू आआहह्ह्ह की आवाज़ निकलने लगी थी। अब डॉक्टर ने उनकी गोरी चिकनी और बिना बालो वाली चूत में अपनी उंगली को डाल दिया और वो लगा उसको अंदर बाहर करने। अब मेरी माँ के मुहं से वो आवाज़ और तेज़ आने लगी थी वो ऊऊऊह्ह्ह्ह ऊफ्फ्फ्फ़ हाँ फाड़ दो तुम आज मेरी चूत को इसमे तुम अपनी सारी उँगलियाँ डाल दो। अब वो जोश भरी बातें सुनकर डॉक्टर का हाथ तेज़ी से चलने लगा और चूत पूरी तरह से गीली हो चुकी थी। फिर डॉक्टर झट से उनकी दोनों जाँघो के बीच में बैठ गया और अपने लंड से मेरी माँ की चूत पर निशाना लगाकर एक ही झटके से उसने अपने लंड को पूरा अंदर डाल दिया। फिर वो उनके ऊपर ही लेटकर धनाधन धक्के लगाने लगा था।

सेक्स कहानी  माँ की चूत- परीक्षण

अब माँ ने अपने पैर को डॉक्टर की कमर पर रखकर डॉक्टर को जकड़ लिया और वो ज़ोर ज़ोर से अपने कूल्हों को उठा उठाकर अपनी चुदाई में डॉक्टर का पूरा पूरा साथ देने लगी थी। दोस्तों डॉक्टर भी अब मेरी माँ का वो जोश देखकर उतना अनाड़ी नहीं रहा और वो उनके बूब्स को मसलते हुए धकाधक धक्के लगा रहा था और पूरा कमरा उनकी चुदाई की जोश भरी सिसकियों की आवाज़ से भरा पड़ा था। अब माँ जोश में आकर अपनी कमर को लगातार हिलाकर अपने दोनों कूल्हों उठा उठाकर चुदाई के मज़े ले रही थी और वो बोले जा रही थी, आहह्ह्ह ऊओह्ह्ह ऊऊहहह हाँ मेरे राजा में मर गई हाँ ऐसे ही धक्के देकर चोदो ऊईईईईईई माँ फट गई आज तो मेरी चूत, ऊफ्फ्फ आज तूने मेरा तो पूरा जूस निकाल दिया रे तू बड़ा जालीम है रे तेरे लंड ने एकदम मूसल की तरह मेरी चूत का मसाला पीस दिया, वाह मज़ा आ गया तेरे लंड में बड़ा दम है, मुझे तेरी चुदाई बड़ी पसंद आई। फिर डॉक्टर भी जोश में आकर बोल पड़ा, ले मेरी रानी तुझे पसंद आया ना मेरा लंड तो तू ले मेरा पूरा लंड पूरा अंदर तक ले अपनी ओखली में। अब माँ कहने लगी उफ्फ्फ हाँ इस तरह की चुदाई के लिए में बड़ा तरसी हूँ यह लंड अब बस मेरा ही है आहह्ह्ह उऊहह वाह क्या जन्नत का मज़ा दिया है रे तूने मुझे में तो अब तेरी गुलाम हो गई हूँ।

कहानी जारी है ….. आगे की कहानी पढने के लिए निचे लिखे पेज नंबर पर क्लिक करे …..
Updated: March 1, 2018 — 8:10 pm
Indian sex Stories © 2017