भाभी की मस्त गांड की धुनाई

हैल्लो दोस्तों, में आज आप सभी पर सेक्सी कहानियों के मज़े लेने वालों को अपने जीवन की एक सच्ची घटना सुनाने जा रहा हूँ, जिसके बारे में मैंने पहले कभी सोचा भी ना था और वो सब मेरे साथ हुआ। दोस्तों वैसे तो बचपन से ही मुझे सेक्स करने में बहुत रूचि रही है और में उसके लिए कोई ना कोई नये नये जुगाड़ लगाने में हमेशा आगे रहता था। मैंने अपने दोस्तों के बताने पर सेक्सी कहानियों को पढ़ना भी शुरू किया जिसके बाद मेरा यह मज़ा और चुदाई की तरफ का आकर्षण पहले से भी ज्यादा बढ़ गया। अब में कहानियों को पढ़कर मुठ मारकर अपने लंड को शांत करने लगा था। दोस्तों ऐसा से भी कब तक मेरा खुश रहता और इसलिए में किसी चूत की तलाश में लगा और फिर एक दिन मेरी अच्छी किस्मत ने मेरा साथ देकर मुझे अपनी एक दूर की रिश्तेदार भाभी के साथ चुदाई का वो मौका दिया, जिसके साथ मैंने मन की इच्छा वो काम किया जिसको आज भी सोचकर में खुशी से झूम उठता हूँ। दोस्तों अब आप सभी को ज्यादा देर बोर ना करके में अपनी उस घटना को पूरी तरह विस्तार से सुनाता हूँ कि कैसे मैंने अपनी भाभी के साथ क्या क्या किया?

दोस्तों किसी भी जवान औरत के साथ जमकर सेक्स करना और उस औरत को इतना चोदना कि वो आगे होकर चुदाई के लिए मना और करे रुकने का आग्रह करे, यह हर एक जवान लड़के का सपना होता है। दोस्तों मेरा भी एक सपना था कि एक बार जरुर में किसी अल्हड़ मस्त जवान औरत की गांड मारी जाए और उसकी चूत में अपनी जीभ को डालकर उसका रस भी एक बार जरुर चखा जाए और उस औरत की भारी भारी, कसी कसी उठान लिए ब्लाउज में दूध से भरे हुए बूब्स हमेशा हिलते हुए मुझे अपनी तरफ आकर्षित किया करते थे और में उनको दबाने के सपनो में हमेशा खो जाता था कि कब उसके ब्लाउज के बटन को खोलकर में उन बूब्स को आज़ाद करूँगा? ब्लाउज के हुक को खोलकर ब्रा को हटाकर दोनों बूब्स को अपने दोनों हाथों में लेकर में उनको दबाने का वो मज़ा लूँ और कब में उस औरत के बूब्स को अपने हाथों में लेकर उनको छूकर दबाकर मुझे कितना मस्त मज़ा आएगा? और कब में भी उन निप्पल को अपने मुहं में लेकर उनका रस पीकर मज़े करूंगा? यह सभी में दिल्ली की हर एक जवान गोरी सुंदर और प्यारी भाभी के बारे में सोचता कि रात को यह कितना मज़ा लुटवाती होगी और लंड की सवारी करके रोज़ जन्नत भी घूमने जरुर जाती होगी।

दोस्तों वैसे मेरे पड़ोस की हर एक भाभी भी मुझसे बहुत घुली मिली हुई थी, इसलिए में उनके साथ बहुत हंसी मजाक किया करता था और उनको कभी भी कोई भी काम होता, तब उनका यह प्यारा देवर हमेशा उनके हर काम को करने के लिए तैयार ही रहता था। एक बार मेरे एक दूर के भैया हमारे यहाँ कुछ दिनों के लिए अपनी बीवी के साथ रहने आ गए और यह बात एक रात की है। उस रात को मुझे ज्यादा गरमी होने की वजह नींद नहीं आ रही थी और में ऐसे ही अपने कमरे से बाहर आँगन में निकलकर आ गया। उस समय मेरे घर के सभी सदस्य सो चुके थे, लेकिन में उठा हुआ था। फिर उसी समय मेरी नजर सामने बेडरूम की खिड़की की तरफ चली गई। मैंने देखा कि वहां से हल्की सी लाइट की रोशनी बाहर आ रही थी, क्योंकि खिड़की के काँच पर कपड़ा पड़ा था और कुछ हिस्सा खुला हुआ था। दोस्तों उस समय उस खिड़की का एक दरवाज़ा हल्का सा टेढ़ा खुला था जिसकी वजह से बाहर की साफ ठंडी हवा कमरे में आ जा सके। फिर मैंने कुछ देर बाद मन ही मन में सोचा कि यह भैया इतनी रात को ऐसा क्या पढ़ रहे है? जो उन्होंने कमरे में उजाला किया है। अब मैंने हल्के से दबे पैर पास जाकर खिड़की के नीचे से अंदर की तरफ झांककर देखा और उसके बाद तो बस मेरी सांसे जैसे रुक ही गई। में बिल्कुल चकित होकर अपनी आखें फाड़कर देखने लगा।

सेक्स कहानी  Padosan ko patakar choda

दोस्तों मैंने देखा कि भाभी उस समय पूरी नंगी होकर पेट के बल लेटी हुई थी और उनके मस्त गोरे बड़े आकार के गोलमटोल कूल्हे उस समय ऊपर की तरफ थे। अब भैया उनकी पीठ पर सरसों के तेल से मसाज कर रहे थे और साथ-साथ वो उनके कूल्हों की भी मसाज कर रहे थे। अब भाभी अपने मुहं से हल्के-हल्के आह्ह्ह्ह सस्स्सईईईइ उफ्फ्फ्फ़ कर रही थी और जब भैया तेल लगाकर अपनी उंगली को भाभी के कूल्हों को फैलाकर गांड के अंदर डालते। फिर उसी समय भाभी कह उठती ऊईईइ प्लीज धीरे धीरे डालो बाबा, मुझे बड़ा तेज दर्द होता है। अब भैया लूँगी को पहने अपने दोनों हाथों से उनके ऊपर जाँघो पर बैठकर दोनों कूल्हों को वो बड़े प्यार से मसाज कर रहे थे। दोस्तों गांड की मालिश करने की वजह से भाभी बहुत खुश नज़र आ रही थी। उनके चेहरे से मुझे उनकी झलकती हुई खुशी साफ नजर आ रही थी। फिर भाभी के उल्टा होकर लेटने से मैंने देखा कि भैया हल्के से लेटकर पीछे से उनकी गांड में अपनी जीभ को भी लगा रहे थे, जिसकी वजह से भाभी अब आआहह ऊह्ह्ह करती जाती। फिर पीछे से ही भैया ने भाभी के कूल्हों को फैला दिया, जिसकी वजह से उनकी चूत भी दो फांको में बट गई और चूत के गुलाबी छेद में अपनी उंगली को डालकर वो अब अंदर बाहर करने लगे। अब भाभी को वो अजीब सा नशा चढ़ने लगा और वो उसकी वजह से मदहोश होने लगी थी।

कहानी जारी है ….. आगे की कहानी पढने के लिए निचे लिखे पेज नंबर पर क्लिक करे …..

Related Post

Indian sex Stories © 2017